Sunday, January 19, 2020
Home > Raigarh > इस ठेकेदार के मनमानी की एक और परत जब खुली तो हैरत में पड़ गए …ये विभाग भी बना रहा मूक दर्शक और बना दी पूरी सड़क

इस ठेकेदार के मनमानी की एक और परत जब खुली तो हैरत में पड़ गए …ये विभाग भी बना रहा मूक दर्शक और बना दी पूरी सड़क

रायगढ़ मुनादी

सारंगढ के मल्दा के पास से मुख्यमंत्री ग्राम सड़क एवं विकास योजना के तहत साढ़े 7 करोड़ की लागत से माल्दा बंजारी मंदिर से मकरा कवरगुड़ा बरमकेला मुख्य मार्ग तक सड़क का निर्माण ठेकेदार अशोक केजरीवाल के द्वारा बनाया जा रहा है।

Munaadi Ad

इस मामले अब जब एक परत सिचाईं विभाग के एक जलाशय के बीच से सड़क बनाने का मामला सामने आया अब इसमें एक और बड़ी रसूख का इस्तेमाल कर सड़क बनाया गया है। जिसमे वन विभाग तक मूक दर्शक बना रहा। जो फारेस्ट नेशनल हाइवे के लिए फारेस्ट लैंड देने से मना कर दिया लेकिन जब ठेकेदार अशोक केजरीवाल द्वारा फारेस्ट लैंड के अंदर से इस सड़क को बना दिया गया और वन विभाग चूं तक नही किया ।

फारेस्ट लैंड पर बन चुकी सड़क

इस सड़क का निर्माण एक दिन में तो हुवा नही और फारेस्ट को इसकी जानकारी न हो माना नही जा सकता है। इससे जाहिर है कि वन विभाग का महकमा और अधिकारी भी इनके आगे नतमस्तक रहे आखिर किसके दबाव में यह सब किया गया और डीएफओ तक को चुप बैठना पड़ा। फारेस्ट सीमा में सड़क निर्माण विभाग का बना मुनारा साबित करता है फारेस्ट का मुनारा जिसके अंदर से सड़क का निर्माण करा दिया है। और अधिकारी पूरे मामले में मूक दर्शक बने रहे।

फारेस्ट का मुनारा और मुनारे के अंदर से बनी सड़क

दरअसल जब मुख्य मंत्री ग्राम सड़क एवं विकास योजना के तहत 18 किमी बनाई जा रही है । खास बात ये है कि इस सड़क क्षेत्र के ग्रामीणों में इस सड़क की कोई उयोगिता नही होना बताया जा रहा है। इस सड़क का एक सिरा एक भाजपा नेता के क्रेशर तक पहुंचता है और यहां न कोई गांव है और न ही किसी गाँव की सड़क को जोड़ती है। क्रशर से निकल कर यह सड़क चंन्द्रपुर के लिए जोड़ने वाली बरमकेला मुख्य मार्ग को जोड़ेगी जिसका सीधा फायदा उक्त क्रेशर संचालक को मिलना है जो अपने माल को मार्केट तक ला सके। और इस सड़क को बनाने के लिए अब तक यही माना जा रहा था कि सिर्फ सिचाईं विभाग के जलाशय के अंदर से वह भी बिना कोई अनुमति लिए जलाशय के अंदर से सड़क निर्माण कर रहा है। अब जब परत खुलनी शुरू हुई तो पता चला कि फॉरेस्ट लैंड का उपयोग भी बिना किसी अनुमति के बना दिया गया है और फारेस्ट के अधिकारी मूक दर्शक बने रहे। इसी बात से ठेकेदार अशोक केजरीवाल के रसूख का अंदाजा लगाया जा सकता है।

इससे जुड़ी खबर यह भी है जानने के लिए क्लिक करें

munaadi ad

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

[bws_google_captcha]