Thursday, October 1, 2020
Home > Jashpur > नागलोग में फिर मचा त्रिकोणीय घमासान !महिला पंचायत सचिव ने डीडीसी के विरुद्ध लगाए गम्भीर आरोप ,कहा-75 हजार..डीडीसी ने भी किया काउंटर ,कहा -मुझे बेवजह …पढिये पूरी स्टोरी और जानिए क्या है पूरा विवाद

नागलोग में फिर मचा त्रिकोणीय घमासान !महिला पंचायत सचिव ने डीडीसी के विरुद्ध लगाए गम्भीर आरोप ,कहा-75 हजार..डीडीसी ने भी किया काउंटर ,कहा -मुझे बेवजह …पढिये पूरी स्टोरी और जानिए क्या है पूरा विवाद

जशपुर जिले के नागलोक कहे जाने वाले फरसाबहार में इन दिनों फिर से घमासान मच गया है।इस बार के घमासान में एक महिला पंचायत सचिच और जिलापंचायत सदस्य के बीच मे मचा हुआ है।
दरसल फरसाबहार जनपद पंचायत के भेलवां ग्राम पंचायत के सरपँच ने यहाँ की महिला पंचायत सचिव के विरुद्ध पंचायत की कार्यप्रणालियों में भारी गफलत किये जाने की लंबी चौड़ी शिकायत कर दी थी।जिला पंचायत सीईओ को दिये गए एक आवेदन में सरपँच ने कई ग्रामीणों के नामजद शिकायत करके बताया था कि उंक्त सचिब के द्वारा कई जरूरी प्रमाणपत्र देने के नाम पर गाँव के कई लोगों से अवैध उगाही की गई है।दूसरी ओर सरपँच की शिकायतों की जांच होती इससे पहले पंचायत सचिव सुनीता भगत ने कलेक्टर सहित राज्य महिला आयोग के नाम एक आवेदन तैयार किया और सभी को प्रेषित कर दिया है। पंचायत सचिव सुनीता ने अपने शिकायत पत्र में लिखा है कि उसके विरुद्ध की गई शिकायत के पीछे जिला पंचायत सदस्य फरसाबहार क्षेत्र क्रमांक 14 विष्णु कुलदीप का हाथ है क्योंकि विष्णु कुलदीप द्वारा कई बार फोन पर और मिलकर डीडीसी चुनाव में इनके द्वारा प्रचार के लिए लगाए गए वाहनों का तकरीबन 75 हजार भुगतान करने का दबाव बनाया जा रहा था इसके लिए जब वह तैयार नही हुई तो विष्णु कुलदीप के अत्यंत करीबी भेलवां सरपंच के साथ मिलकर ग्रामीणों को गलत तरीके से आगे करके झूठी शिकायत क़रा दी गयी ताकि उसे पंचायत से हटा दिया जाय और सरपँच डीडीसी मिलकर भ्र्ष्टाचार को बेहतर तरीके से अंजाम दे सकें ।
पंचायत सचिव ने यह भी बताया कि इस बार के पंचायत चुनाव के बाद पंचायत के गठन होने पर सरपँच ने कई महीनों तक नमूना हस्ताक्षर नही किये जिसके चलते कई योजनाओं की राशि आहरण नही हो पाई बाद में अचानक उसका वित्तीय प्रभार हटाकर किसी दूसरे को वित्तीय प्रभार सौंप दिया गया और तत्काल 6 लाख एवं 1 लाख और की राशि का आहरण कर लिया गया और राशि आहरण करने के बाद उसे पुनः वित्तीय प्रभार सौंपा गया ।इन सबके अलावे पंचायत सचिव ने 3 पेज की शिकायत में कई सारे खुलासे किए हैं।

पढिये 3 पेज की पूरी शिकायत

इधर इस मामले में जब हमने डीडीसी विष्णु कुलदीप से दूरभाष पर सम्पर्क किया तो उन्होंने उनके ऊपर लगाए गए आरोप को तथ्यहीन और बेबुनियाद बताया गया।उन्होंने कहा कि चुनाव के दौरान प्रचार के लिए लगाए गए वाहनो का उन्होंने पूरा भुगतान कर दिया है ।किसी भी वाहन मालिक को उन्हें किराया देना ही नहीं है ऐसे में अपने आप मे आरोप फर्जी साबित हो रहा है।पंचायत सचिव से एक दो बार फोन में बात हुई है लेकिन बात चीत के दौरान उसने अपनी समस्या बताई और मैं समस्या सुना इस दौरान उससे हमारी कोई लेन देन की बात नहीं हुई ।दुसरी और अहम बात उन्होंने ये बताया कि भेलवां ग्राम पंचायत डीडीसी क्षेत्र क्रमांक 13 का हिस्सा है जहां उनका कोई दखल ही नहीं है ।क्षेत्र कर्मनकव14 में आने वाले केवल 28 ग्राम पंचायत है जिसमे भेलवां उसका हिस्सा ही नही है ऐसे में उस पंचायत में दखल देने का प्रश्न ही पैदा नही होता ।ग्राम पंचायत के सरपँच और सचिव के बीच आपसी विवाद के बीच मे उन्हें घसीटना ठीक नही है ।

Munaadi Ad

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

//graizoah.com/afu.php?zoneid=3585386