Press "Enter" to skip to content

अब ये भी: जानवरों के बीच भी शुरू हुआ जातिवादी दंगा, परेशान लोगों ने बुलाया टीम, अब एक-एक जानवरों पर हो रही निगरानी, गांव में दहशत, पढ़िए पूरी खबर



डेस्क मुनादी।। आपने अपने किसे पड़ोसी या साथी को यह कहते सुना होगा कि जानवर बन गए हो क्या ? लेकिन किसी जानवर के लिए ऐसा कभी सुने कि इंसान हो क्या ? शायद नहीं। लेकिन महाराष्ट्र के एक गांव में लोग यह कहते सुने जा  रहे हैं कि जानवरों में कैसी इंसान वाली खराब आदत आ गई है ?

दरअसल महाराष्ट्र के बीड़ जिले के मजलगांव में बंदरों ने चुनचुनकर कुत्ते के पिल्लों को मारना शुरू कर दिया है। दरअसल यह उनका बदला है। बताया जाता है कि कुछ दिन पहले कुछ कुत्तों ने एक बंदर के बच्चे को मार डाला था इसी बात का बदला लेने के लिए बंदरों ने कुत्ते के पिल्लों को मारना शुरू कर दिया। बताया जाता है कि बंदरों ने अबतक 250 से ज्यादा पिल्लों की हत्या कर दी है। इनके बीच लड़ाई से गांव में दहशत का माहौल है। ग्रामीणों ने वन विभाग को खबर की है अब वन विभाग इनकी निगरानी कर रहा है लेकिन बंदरों को अबतक पकड़ा नहीं जा सका है।

बताया जाता है कि यह काम कुछ बंदरों का समूह कर रहा है। पहले ग्रामीणों ने इसे आम घटना माना लेकिन इनकी हरकतें लगातार बढ़ती जा रही थी इसलिए वन विभाग को खबर की। लेकिन बंदरों को वन अमला नहीं पकड़ा सका है। इलाके के कुत्ते दहशत में हैं। हालांकि बंदर सिर्फ उनके बच्चों का ही शिकार कर रहे हैं।

इसे स्थानीय लोग जानवरों का गैंगवार और कुत्ते और बंदरों के बीच दंगा होने का उपमा दे रहे हैं। वे कह रहे हैं इंसानों का दुर्गुण इन बंदरों में कैसे आ गया ? क्या ये बंदर मानव बनने की ओर अग्रसर हैं ? बहरहाल जब तक इस गांव के बंदर नहीं पकड़े जाते तब तक ग्रामीण भी दहशत में हैं।

इस मामले को सोशल मीडिया में भी जोरशोर से उठाया जा रहा है। कहा जा रहा है कि नस्ल और धर्म का जो ज़हर देश में फैलाया जा रहा है बंदर भी उसी का शिकार हो गए हैं क्योंकि आखिर वे इंसानों के ही तो पूर्वज हैं।

Be First to Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *