Press "Enter" to skip to content

स्व दिलीप सिंह जूदेव की बड़ी बहू प्रियम्वदा ने शुरू किया मिशन “गढ़ वापसी ” ! कहा- पहले गढ़ वापस लेंगे फिर होगी दूसरी बात , पढिये पूरी खबर जानिए क्या चल रहा है रियासत के अंदर और ……

“मुनादी “के कई तीखे सवालों के दिये चौंकाने वाले जवाब ,

जशपुर मुनादी।। राजपरिवार की बड़ी बहू व नगरपालिका के पूर्व उपाध्यक्ष प्रियम्वदा सिंह जूदेव अब पॉलटिकल फार्म में आ गयी है । उन्होंने पूरी दृढ़ता के साथ कहा है कि भाजपा के जिस गढ़ को विरोधियों ने भाजपा से छीना से उस गढ़ को जशपुर की जनता के हवाले करना पहला मकसद है । उन्होंने मुनादी डॉट कॉम से औपचारिक चर्चा के दौरान कहा कि 2013 के विधानसभा चुनाव में जिस तरह भाजपा ने पूरे जिले में जीत का परचम लहराया था ठीक उसी प्रकार अगले 2023 के चुनाव में भी भाजपा जिले की तीनों सीट पर जीत का परचम लहराएगी ।भाजपा का गढ़ वापस जिले की जनता को मिलेगी इस बात का उन्हें पूरा यकीन है।

श्रीमती जुदेव ने कहा कि जिले के तीनों विधानसभा में भाजपा की होने वाली ऐतिहासिक जीत का श्रेय जशपुर की हर जनता और बीजेपी के एक एक कांर्यकर्ता को जाएगा और अगर ऐसा नही हॉगा तो जुदेव परिवार की बड़ी बहू होने के नाते हार की जिम्मेदारी वह स्वयं लेंगी ।

उन्होंने चर्चा के दौरान पूछे गए एक सवाल का जवाब देते हुए कहा -स्व दिलीप सिंह जूदेव पूरे जशपुर को अपना परिवार मानते रहे और यह अच्छी बात है कि जिले में आज भी हमारे ससुर स्व कुमार साहब का नाम हर किसी के जुबान पर है । यहाँ राजनीति की शुरुआत की कुमार साहब के नाम से शुरू होती है ।चाहे कोई किसी भी पार्टी से हो जबतक स्व कुमार साहब का नाम नही आता राजनीति की शुरुआत नही होती ।

जशपुर रियासत परिवार में इन दिनों स्व दिलीप सिंह जुदेव के नाम को सामने रखकर कई लोग राजनीति कर रहे है और सोशल मीडिया में इस बात को लेकर कई तरह के सवाल खड़े किए जा रहे हैं इस सवाल के जवाब में उन्होंने कहा -“मैं पहले ही बता चुकी हूं कि जशपुर में कुमार साहब के नाम के बगैर राजनीति शुरू नही होती और घर परिवार की बात छोड़िए जिले के हर सख्श का कुमार साहब के नाम पर अधिकार है और कोई अगर उनके नाम से जशपुर के लोगो के लिए कुछ करना चाहता है ,जशपुर के लोगो की सेवा करना चाहता है तो इससे अच्छी बात नहीं हो सकती और दूसरी बात ये कि अभी वक़्त सोशल मीडिया में उठाये जा रहे सवालों पर न जाकर भाजपा के गढ़ को विरोधियों से वापस छींनने का वक़्त है और इस पुनीत कार्य मे जो भी आगे आएं सभी का हृदय से स्वागत है ।सारी बातों को भूलकर स्व कुमार साहब के उस बात को याद रखकर काम करने की जरूरत है जो वो अक्सर कहा करते थे कि इस क्षेत्र को रखना मेरे दोस्तों सम्हाल के ।

श्रीमती प्रियम्वदा से जब यह पूछा गया कि आपके ही परिवार के सदस्य विक्रमादित्य सिंह जूदेव ने आपके परिवार के सबसे बड़े राजनीतिक शत्रु प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी का हाथ थाम लिया था और आज फिर से वह भाजपा में है और भाजपा के लिए काम कर रहे हैं ?

इस सवाल के जवाब में उन्होंने कहा -यह बात सच है कि जिस अजीत जोगी ने हमारे ससूर स्व कुमार साहब की राजनीतिक हत्या के लिए षड्यंत्र रचा था ,उन्हें नीचा दिखाने में कोई कसर नहीं छोड़ा थां उन्होंने उसी अजीत जोगी से हाथ मिला लिया था ।इस घटना के बाद स्व कुमार साहब का सिर झुक गया था ।कई तरह के सवाल उठाए जाने लगे थे ।कुमार साहब काफी लम्वे समय तक इस घटना को लेकर सदमे में थे लेकिन वह हमेशा कहा करते थे कि सुबह का भूला अगर शाम को घर लौट आये तो उसे भूला नहीं कहा जा सकता ।इसी तरह उन्होंने पहले क्या किया उसे नजरअंदाज करने की जरूरत है बल्कि यह देखिये कि अब वह भाजपा के लिए काम कर रहे हैं और हर किसी को मिशन गढ़ वापसी के लिये काम करना चाहिए ।साध्य यही होना चाहिए ।

आपको बता दें कि श्रीमती प्रियम्वदा सिंह जूदेव स्व दिलीप सिंह जूदेव की बड़ी बहू हैं।2013 में जुदेव के निधन के बाद वह सक्रिय राजनीति में आई तब से लगातार राजनीति में सक्रिय होकर कार्य कर रही है। उन्होंने जिले के कई महत्वपूर्ण मुद्दों पर कार्य किये और कार्य को अंजाम तक पहुंचाया ।वह 5 वर्षो तक जशपुर नगरपालिका की उपाध्यक्ष रही लेकिन जिले के कई महत्वपूर्ण मुद्दों पर पूरे जिले में कार्य किये। संगठन के द्वारा उन्हें बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ का दायित्व सौंपा गया ।इस दायित्व को उन्होंने जशपुर से लेकर प्रदेश की राजधानी रायपुर तक मे कार्य किये ।

Munaadi Ad Munaadi Ad Munaadi Ad Munaadi Ad Munaadi Ad

Be First to Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *