Thursday, June 27, 2019
Home > Top News > पोर्न साइट्स पर लगे पूरी तरह बैन-…..पटेल ….. गृहमन्त्री अमित शाह को लिखा पत्र

पोर्न साइट्स पर लगे पूरी तरह बैन-…..पटेल ….. गृहमन्त्री अमित शाह को लिखा पत्र

कोरिया से अनूप बड़ेरिया की मुनादी

क्षेत्र के वरिष्ठ अधिवक्ता विजय प्रकाश पटेल ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी एवं केन्द्रीय गृहमंत्री अमित शाह को ज्ञापन प्रेषित कर इन्टरनेट मोबाईल के ज़रिए बेहिसाब अश्लीलता परोसने वाले यू ट्यूब एवं तमाम पोर्न साइट्स का प्रसारण पूरी तरह से तत्काल बैन कर बन्द कर देने की माँग की है । श्री पटेल ने अपने ज्ञापन में उल्लेखित किया है कि हमारे सभ्य भारतीय समाज की संस्कृति और पवित्र रिश्तों को कलंकित करने व उन्हें बिगाड़ने सहित इन बेहद अश्लील साइट्स द्वारा बाल- यौन इत्यादि अपराधों को बढ़ावा देने में वीभत्स भूमिका का निर्वाह किया जा रहा है, जो अत्यन्त शर्मनाक, निन्दनीय एवं चिन्तनीय है, क्योंकि इन्हें वरिष्ठजन-युवा पीढ़ी सहित नाबालिग बच्चों व छात्र-छात्राओं द्वारा भी बेरोकटोक देखा जा रहा है,जिससे इन सभी की मानसिकताओं और भविष्य पर विकृत दुष्प्रभाव पड़ने से आये दिन छेड़खानी, बलात्कार और हत्या जैसे मामलों में व्यापक वृद्धि हो रही है । छोटी-छोटी अबोध और मासूम बच्चियों के साथ शर्मनाक व क्रूर बलात्कार कर उनकी हत्या तक कर देने की घटनाओं में जो बेतहाशा वृद्धि हुई है, उसके पीछे इन अश्लील पोर्न साइट्स की अहम भूमिका है । श्री पटेल ने कहा है कि विभिन्न पारिवारिक सम्बन्धों के बीच जिस तरह से नाना प्रकार की अश्लील कहानियों का चित्रण बनाकर हमारे सभ्य समाज और पवित्र रिश्तों को की मानसिकता को कुत्सित व कुण्ठित करने का दुष्प्रयास किया जा रहा है, इस पर यथाशीघ्र पूर्णतः रोक लगाना नितान्त आवश्यक हो गया है। उन्होंने लिखा है कि हमें पूरा विश्वास है कि यू ट्यूब सहित तमाम पोर्न साइट्स को तत्काल बैन कर देने से ही यौन व बाल अपराधों को काफी हद तक नियन्त्रित किया जा सकेगा,साथ ही ऐसे वीभत्स व शर्मनाक बाल-यौन अपराधों के घटित होने के पश्चात् कैंडल मार्च,धरना-प्रदर्शन करने के अलावा भारतीय दण्ड विधान में संशोधन कर अपराधियों के ऐसे मामलों की सुनवाई एक माह के भीतर पूरी कर उनके लिए मृत्यु-दण्ड का निश्चित प्रावधान किया जाना नितान्त आवश्यक हो गया है।

Munaadi Ad

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *