Saturday, September 21, 2019
Home > समाचार > मुस्लिम समुदाय ने मोहर्रम के अवसर पर कर्बला के शहीदों को याद निकाली रैली, इमाम हुसैन की याद में किया …. इस तरह

मुस्लिम समुदाय ने मोहर्रम के अवसर पर कर्बला के शहीदों को याद निकाली रैली, इमाम हुसैन की याद में किया …. इस तरह

पत्थलगांव से अतुल त्रिपाठी/बबलू तिवारी

पत्थलगांव में आज मुस्लिम समुदाय ने मुहर्रम के अवसर पर शहर के तीनों मुख्य मार्गों पर रैली निकाली और हुसैन को याद करते हुए चौक पर करतब भी दिखाए इस दौरान भारी संख्या में मुस्लिम समुदाय के लोग यहां उपस्थित रहे जिन्होंने तिरंगे झंडे के साथ रैली निकालकर लोगों के दिलों को जीत लिया ।।


क्या है मुहर्रम —
मुहर्रम यानी कर्बला की जंग, इमाम हुसैन की शहादत को याद करने का है । मुहर्रम समिति के अध्यक्ष इस्माइल कादरी ने बताया कि ये इस्लामिक नए साल का पहला पर्व है यहीं से इस्लामी साल शुरू होता है जिसे मुस्लिम समुदाय के लोग गम के रुप में मनाते हैं। इस दिन इमाम हुसैन और उनके अनुयायियों की शहादत को याद किया जाता है।


पूरी दुनिया के मुसलमान मुहर्रम की नौ और दस तारीख को रोजा रखते हैं और मस्जिदों-घरों में इबादत करते हैं। मुहर्रम इस्लामिक वर्ष का पहला महीना होता है। इस महीने की 10वीं तारीख को मनाया जाता है मुहर्रम जिसे आशूरा भी कहा जाता है। साल 2019 में मुहर्रम 10 सितंबर यानी कि आज मनाया जा रहा है। ये इस्लामिक नए साल का पहला पर्व है। इसे मुस्लिम समुदाय के लोग गम के रूप में मनाते हैं। इस दिन इमाम हुसैन और उनके अनुयायियों की शहादत को याद किया जाता है।

निसामुद्दीन ने बताया कि जिसने मुहर्रम की 9 तारीख का रोजा रखा, उसके दो साल के गुनाह माफ हो जाते हैं तथा मुहर्रम के एक रोजे का 30 रोजों के बराबर फल मिलता है। मोहर्रम महीने की 10वीं तारीख को ताजिया जुलूस निकाला जाता है। ताजिया लकड़ी और कपड़ों से गुंबदनुमा बनाया जाता है और इसमें इमाम हुसैन की कब्र का नकल बनाया जाता है। इसे झांकी की तरह सजाते हैं और एक शहीद की अर्थी की तरह इसका सम्मान करते हुए उसे कर्बला में दफन करते हैं।
बादशाह तैमूर लंग ने 1398 इमाम हुसैन की याद में एक ढांचा तैयार कर उसे फूलों से सजवाया था। बाद में इसे ही ताजिया का नाम दिया गया। इस परंपरा की शुरुआत भारत से ही हुई थी।

munaadi ad munaadi ad

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *