Monday, November 18, 2019
Home > Top News > अब कोरवा समाज के लोग भी हुए सरकार के खिलाफ ,प्रबल की मौजूदगी में कहा -सुधर जाओ सरकार नही तो हम तुम्हे सुधार देंगे !

अब कोरवा समाज के लोग भी हुए सरकार के खिलाफ ,प्रबल की मौजूदगी में कहा -सुधर जाओ सरकार नही तो हम तुम्हे सुधार देंगे !

Munaadi News

जशपुर मुनादी ।।

 

जशपुर राजघराने के सियासी सख्शियत व भारतीय जनता युवा मोर्चा के प्रदेश उपाध्यक्ष प्रबल प्रताप जूदेव के सामने जिले के पहाड़ी कोरवाओं ने आज सरकार के खिलाफ जमकर अपना अंदर का भड़ास निकाला । पहाड़ी कोरवा- दिहाड़ी कोरवा में भेद खत्म करके दोनों को समान अधिकार और समान रुप से योजनाओं का लाभ देने को लेकर जशपुर जिले के बगीचा में आज कोरवा समाज की विशाल रैली बुलायी गयी थी ।इस रैली के मुख्य वक्ता प्रबल प्रताप जूदेव थे । बगीचा नगर में रैली के बाद जब  आमसभा शुरू हुई तो बगीचा के सर्द तापमान का पारा सातवे आसमान पर जा पहुचा।  रैली को  सम्बोधित करने यहां  कोरवाओं के कई अगुआ नेता मंच पर मौजूद थे और सभी ने सरकार पर पहाड़ी कोरवाओं की उपेक्षा का आरोप लगाया और कहा कि अभी भी वक़्त है सरकार को सुधर जाना चाहिए नही तो प्रदेश को कोरवा सरकार को सुधार देंगे । मंच से उद्बोधन में कोरवा समुदाय की अगुआई कर रहे नेताओं ने कहा कि समुदाय में वर्गभेद पैदा करकर केवल राजनीतिक फायदे उठाये गए और चुनाव के लिए कोरवाओं को केवल अब तक इस्तेमाल किया जाता रहा है लेकिन अब समाज के लोग जाग गए हैं और अब उन्हें बेवकूफ नही बनाया जा सकता । हम आपको बता दें कि जशपुर के इतिहास् में यह पहला दिन है जब कोरवा समाज के लोग सरकार के खिलाफ काफी उग्र दिखे ओर जशपुर पैलेस के जिम्मेदार सदस्य के सामने ही सरकार को खूब कोसा । यह भी बताना जरूरी है कि भारतीय जनता पार्टी के लिए कोरवा समुदाय को सबसे मजबूत वोट बैंक माना जाता रहा है और यह समुदाय सरकार से ज्यादा जशपुर  राजपरिवार का समर्थक रहा है लेकिन आज के आक्रोश को देखकर  कही न कही यह बात साफ होती दिख रही है कि समाज के लोग सरकार से काफी नाराज हैं ।दूसरी बात यह भी है कि आज के दिन इस कार्यक्रम में  प्रबल प्रताप को मंच का मुख्य वक्ता बनाकर मंच पर बिठाकर सरकार को खरी खोटी सुनाने के पीछे इनकी मंशा सीधे सरकार तक उनका संदेश भेजना भी हो सकता है था फिर वे पैलेस को भी संदेश देना चाह रहे होंगे ।

बहरहाल, आज की रैली और रैली  से उठी आवाज सरकार ओर इनपर सियासत करने वाले नेताओं के लिए बहुत ही कड़ा संदेश है । इस संदेश पर सरकार और सियासतदानों दोनों को मंथन करने के लिए अभी भी बहुत कुछ बचा है अन्यथा यह सियासत है इसे पलटने ओर सुलटने में ज्यादा वक्त नही लगता ।

munaadi ad

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *