Monday, October 14, 2019
Home > छत्तीसगढ़ > ज्वारा हुआ विसर्जन भक्तों ने तोड़ी उपवास, आज होगा गढ़ विछेदन में जुटेंगे होगा अनोखा आयोजन …यहां मिलता है देखने ……

ज्वारा हुआ विसर्जन भक्तों ने तोड़ी उपवास, आज होगा गढ़ विछेदन में जुटेंगे होगा अनोखा आयोजन …यहां मिलता है देखने ……


कोसीर मुनादी लक्ष्मी नारायण लहरे

कोसीर की ऐतिहासिक मा कौशलेश्वरी देवी मंदिर की ज्वारा कलश ढुकुलिया तालाब में विसर्जन किया गया कलश विसर्जन देखने गांव और आस पास के हजारों लोग पहुंचे और आनन्द लिए । नव रात्रि के नवे दिन माँ कौशलेश्वरी देवी मंदिर में 03 बकरे की बलि दी जाती है जो पुरखा से चली आ रही है उसके बाद मन्दिर के मुख्य दो कलश को बैगिनो दुवारा अपने सर में उठाकर बाजे गाजे के साथ विसर्जन के लिए तालाब की ओर निकल पड़ते है फिर मा की गीत मंगल के साथ विसर्जन किया जाता है ।कलश विसर्जन के बाद बलि दिए बकरे का प्रसाद बनाकर मंदिर पर भोग चढ़ाया जाता है इस भोग को ग्रहण करने गांव के लोग उपस्थित होते है और प्रसाद के रूप में ग्रहण कर अपने को धन्य मानते हैं ।
कोसीर का दशहरा पर्व हर्षोल्लास से हाई स्कूल मैदान में होता है यहाँ गढ़ विच्छेद का पर्व होता है जो शाम को गांव के लोग बाजे गाजे के साथ खेल मैदान पहुंचते है और मैदान में बने गढ़ में दौड़ते है जो उस गढ़ टीला में पहले चढ़ जाता है वह विजेता घोषित होता है और धोती नारियल भेंट कर फूल माला पहनाकर स्वागत किया जाता है फिर गांव में घुमाते है मंदिर दर्शन करते है मेला का आनन्द लेते हैं ।

munaadi ad munaadi ad munaadi ad

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *