Saturday, September 21, 2019
Home > Jashpur > और तीसरी मौत के बाद इस गाँव मे पसर गया मातम….

और तीसरी मौत के बाद इस गाँव मे पसर गया मातम….

जशपुर में सरकारी सुविधाओं का इस कदर अकाल पड़ गया है कि यहाँ एम्बुलेंस जैसी बुनियादी जरूरतों के अभाव में लोगों का दम निकलने लगा है।इसका ताजा उदाहरण बीती रात जशपुर के कांसाबेल में हुई सड़क दुर्घटना है।जहाँ पिता पुत्री की मौके पर ही मौत हो गयी और तीसरा घायल घण्टो तक एम्बुलेंस के लिए तरसता रहा और जब तक उसे एम्बुलेंस मिलता उसका दम निकल चुका था।

कांसाबेल/जशपुर मुनादी//

शनिवार रात को हुए सड़क दुर्घटना में पिता पुत्री की मौत के बाद घायल व्यक्ति की भी मौत हो गयी।घटना कांसाबेल थाना अंतर्गत थाना के समीप रास्ट्रीय राजमार्ग में सामने से आ रही ट्रक ने बाइक जोरदार टक्कर मार दी जिसमे बाइक में सवार पिता पुत्री की मौके पर ही मौत हो गयी तथा अन्य व्यक्ति गंभीर रूप से घायल हो गया,घटना की सूचना पर कांसाबेल पुलिस एवं स्थानीय लोगों की मदद से तीनों व्यक्तियों को कांसाबेल के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र लाया गया जहाँ डॉ ने चेटबा निवासी सन्तन साय पिता स्व सत्यनारायण साय उम्र 30 वर्ष एवं उनकी 5 वर्षिय पुत्री चहक साय को मृत घोषित कर दिया तथा गंभीर रूप से घायल कुंजबिहारी साय पिता रामधनी साय उम्र 28 वर्ष को अंबिकापुर के लिए रिफर कर दिया,जिसको अंबिकापुर लेते समय बगीचा समीप उसका मौत हो गया।घटना को लेकर पूरे गांव में मातम छा गया है।

ढाई घंटे तक परिजनों को एम्बुलेंस के लिए करना पड़ा इंतज़ार

मृतक के परिजन हादसे के बाद घायल हुए व्यक्ति को डॉ द्वारा रिफर किये जाने के बाद ढाई घंटे तक एम्बुलेंस के लिए इंतज़ार करना पड़ा।परिजनों ने बताया कि कांसावेल का 108 एम्बुलेंस महीनों से ख़राब पड़ा है,जिसकी वजह से घायल हुए व्यक्ति को अंबिकापुर ले जाने में देरी की वजह से मौत हो गयी।परिजनों ने बताया कि केंद्रीय इस्पात राज्य मंत्री विष्णुदेव साय द्वारा उनके सांसद निधि से 10 लाख रुपये का लोंगो के सुविधाओं के लिए प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र बगिया के लिए दिए हैं,लेकिन वहां के प्रभारी नीलकंठ नायक द्वारा आपातकालीन में एम्बुलेंस सुविधा को लेकर गुहार लगाते हैं,पर उन्हें सही समय पर एम्बुलेंस की सुविधा देने में आनाकानी करते है,मृतक के परिजन ने बताया कि घटना के बाद एम्बुलेंस सुविधा के लिए बगिया अस्पताल के प्रभारी नीलकंठ नायक को कई बार फ़ोन किया,लेकिन फ़ोन तक उनके द्वारा रिसीव नही किया गया,परिजन रात को एम्बुलेंस के लिए दर दर भटकते रहे,किसी तरह रात 10 बजे करीबन 108 की मदद से घायल को अंबिकापुर ले जाया रहा था उसी वक्त बगीचा के पास उसका मौत हो गया।तीनो मृतक का पोस्टमार्डम कर कांसाबेल पुलिस ने आज सुबह शव को परिजनों को सौंप दिया।

munaadi ad munaadi ad

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *