Sunday, April 21, 2019
Home > Top News > ये लड़की है बुजुर्गों का ATM, जब उन्हें पैसों की होती है जरूरत, बुलाते हैं और ……..

ये लड़की है बुजुर्गों का ATM, जब उन्हें पैसों की होती है जरूरत, बुलाते हैं और ……..

 

वर्धा महाराष्ट्र से लक्ष्मी विश्वकर्मा की मुनादी ।।

 

 

महाराष्ट्र के वर्धा जिले के वायगांव में 40 वर्षीय संगीता कांबले एक बैंक संपर्ककर्ता है। जो श्रवणबल योजना के तहत बुजुर्गों को तीन माह में एक बार, पैसा उनके स्थानीय भारतीय स्टेट बैंक शाखा में जमा करवाया जाता है। बुजुर्ग बेसहारा लोगों के पास कोई सहारा नहीं है कि वह स्वंय बैंक जाकर अपना पेंशन ले सके इसलिए संगीता कांबले माइक्रो एटीएम से बैंकिंग सुविधा का कार्य स्वंय कर रहीं है। इस योजना में वर्धा में 42.55 करोड़ रुपये से अधिक के 1,59,787 लेन देन देखे गए हैं।

 

 

 

अब तक 115 बैंक संपर्ककर्ता में से 11 ने प्रत्येक के 1 करोड़ रुपये से अधिक के लेनदेन को रिकॉर्ड किया है। बैंक संपर्ककर्ताओं में ज्यादातर वर्धा के स्थानीय स्व-सहायता(सेल्फ हेल्प ग्रुप) समुहों से हैं। जिन्हें आईडीएफसी प्रथम बैंक द्वारा माइक्रो-एटीएम मशीन संचालित करने और लेनदेन करने के लिए प्रशिक्षित किया गया है। यह बैंकिंग योजना(हमारा आधार-हमारा बैंक) के तहत नियुक्त हैं। प्रत्येक संपर्ककर्ता को लेनदेन के आधार पर 5,000रुपये – 7,000रुपये मिलते हैं। जिसमें कमीशन और महाराष्ट्र राज्य ग्रामीण आजीविका मिशन(एमएसआरएलएम) से 3,000 रुपये का मासिक मानदेय शामिल है। राष्ट्रव्यापी पिछले 8 वर्षों में इस बैंकिंग के प्रवेश में काफी वृद्धि हुई है। वहीं गांवों में बैंकिंग संपर्ककर्ता के माध्यम से आउटलेट 15,174 से बढ़कर 5,15317 हो गए हैं। वर्धा के कलेक्टर शैलेश नवल कहते हैं वर्धा में हमारी 128 बैंक शाखांए हैं। जिनमें से प्रत्येक में लगभग एक हजार की आबादी और 4-5 गांवों को कवर किया जाता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *