Wednesday, March 20, 2019
Home > Slider > इस रास्ते से गुजरने वाले सम्हल जाएं,ये मौत का रास्ता है,इस नसीहत को जरूर पढ़ें

इस रास्ते से गुजरने वाले सम्हल जाएं,ये मौत का रास्ता है,इस नसीहत को जरूर पढ़ें

गरियाबंद मुनादी—//

रास्ता मंजिल तक ले जाने का माध्यम होता है,तथा अलग अलग कस्बो व शहरों को जोड़ने का काम करता है, विकास को नई रफ्तार देने के लिए शासन अच्छे सड़क का निर्माण कराना तो चाहती है, पर कही न कही चूक रह ही जाता है जिसका खामियाजा राहगीरों को उठानी पड़ती है,आपको बता दे कि फिंगेश्वर से छुरा तक जाने वाली मार्ग का निर्माण कार्य अभी चल ही रहा है, इस सड़क में कुछ महीनों में ही चार हादसे हो चुके है जिसमे राहगीरों को अपनी जान भी गवानी पड़ी है, और गौर करने वाली बात यह है कि जितने भी हादसे हुए है उसकी वजह सड़क में चल रहा निर्माण कार्य और रोड के किनारे और रोड के ऊपर( अव्यवस्थित रूप से) डाले गए मुरुम में फिसलने की वजह से ये हादसा घटित हुआ है….!

अव्यवस्थित रूप से किया जा रहा काम, जो दे रहा हादसों को निमंत्रण

काम तो हो रहा पर इसमें बड़ी लापरवाही पूर्वक अव्यवस्थित रूप से काम किया जा रहा, कही रोड में मिट्टी पड़ी है तो कही मुरुम अपूर्ण रूप से बिखरा पड़ा है, जिससे रात्रिकालीन राहगीरों को और सबसे ज्यादा परेशान उठानी पड़ रही तो कुछ हादसों में राहगीरों को जान भी गवानी पड़ी है..! यही हाल है महासमुंद से राजिम को जोड़ने वाली सड़क का, जिसका पुनः डामरीकरण किया जा रहा और रोड किनारे में मुरुम को अव्यवस्थित रूप बिखेरा जा रहा है,जिससे अनुमान लगाया जा सकता है की हादसा फिर से मुरुम में फिसले की वजह से हो सकता है…!

राहगीरों को नसीहत

राहगीरों को बताना चाहेंगे कि,रात्रिकालीन अगर इस रास्ते से आते जाते हो तो रोड के किनारे बाइक धीमी गति से चलावे और हेलमेट का इस्तेमाल जरूर करे,क्योकि सबसे ज्यादा परेशानी बाइक सवार राहगीरों को ही हो रही है,

अब देखना यह होगा कि अधिकारी कब इस ओर ध्यान देते है,जिससे आने वाले दिनों में मुरुम में फ़िसलने की वजह से और कोई अनहोनी घटना ना हो……!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *