Sunday, August 18, 2019
Home > Top News > मदरसा अहमदिया का अभिनव पहल, यौमे जम्हूरियत पर पंडित, इमाम, फादर और गुरु सिंह सभा के साथ फहराया झंडा, कहा…….

मदरसा अहमदिया का अभिनव पहल, यौमे जम्हूरियत पर पंडित, इमाम, फादर और गुरु सिंह सभा के साथ फहराया झंडा, कहा…….

Munaadi News

रायगढ़ मुनादी ।

 

सभी धर्मों का आदर करना, सभी धर्म के प्रमुखों को सम्मान देना यह सब अक्सर सैद्धांतिक बाटे कही जाती है लेकिन मदरसा अहमदिया ने गणतंत्र दिवस के मौके पर सभी धर्म के प्रमुखों को एक झंडा, तिरंगा के नीचे खड़ा किया और बताया कि सच्चा लोकतंत्र यही है। गणतंत्र के पर्व पर यह कार्यकरण सर्व धर्म समभाव की एक मिसाल बन गई ।

 


शहर के मधुबन पारा में स्थित मदरसा अहमदिया साबरिया में यौमे जम्हूरियत पूरे आन बान शान के साथ मनाया गया । यौमे जम्हूरियत के मौके पर ध्वजारोहण स्वतंत्रता संग्राम सेनानी उत्तराधिकारी संघ रायगढ़ जिला अध्यक्ष एम एल जोगी के द्वारा विशिष्ट अतिथि दीपक पांडे संरक्षक रामलीला समिति, हाफिज अताउन नबी साबरी नायाब इमाम मस्जिद गरीब नवाज, सरदार गुरविंदर सिंह घई अध्यक्ष गुरुद्वारा गुरु सिंह सभा रायगढ़, फादर अमृतलाल खलखो संत जेवियर चर्च बोईरदादर, गणेश कछवाहा ट्रेड यूनियन काउंसिल आदि की उपस्थिति में ध्वजारोहण कर सलामी दी गई। इस मौके पर संतोष बोहिदार कांग्रेस सेवादल, प्रखर वक्ता सरदार लल्लू सिंह, सरदार नरेंद्र पाल सिंह, नरेंद्र आचार्य व्याख्याता, हाजी शेख अब्दुल्लाह, बृजमोहन अग्रवाल ने अपने अपने शब्दों में स्वतंत्रता को लेकर लड़ी गई आजादी को लेकर अपने अपने विचार व्यक्त किए । प्रखर वक्ताओं ने मौजूदा समय में स्वतंत्रता के मायने बताएं। इस मौके पर हाजी गुलाम रसूल, शेख अयातुल्लाह, हाजी शेख मुबस्सीर, शेख मुबस्सीर, मो हरीश, हिदायतुल्लाह खान, सै अनवर, यावर हुसैन, सहित तमाम लोगों की उपस्थिति में बारिश के बाद भी कार्यक्रम का सफल आयोजन किया गया ।

 


मदरसा अहमदिया साबरिया के सदर हाजी शेख कलीमुल्लाह वारसी ने बताया कि यौमे जम्हूरियत को संभाल कर रखना हम सब की जिम्मेदारी है। देश की आजादी में किसी एक का नहीं वरन उन तमाम लोगों का है जिन्होंने जम्हूरियत की खातिर अपने प्राणों की आहुति दे दी थी।


कार्यक्रम में वजह तुल्ला वास्ते के द्वारा ए वतन ए वतन गीत ने तमाम लोगों का मन मोह लिया। वहीं पंडित आर पी तिवारी पूर्व प्रबंधक भूमि विकास बैंक के द्वारा बांसुरी से देश भक्ति गीत बजा कर लोगों का मन मोह लिया। कार्यक्रम में एक धर्मगुरु दूसरे धर्म गुरु का माल्यार्पण कर सम्मान करते देखे गए । विपरीत विचारधारा के दूसरी विचारधारा का सम्मान सामाजिक समरसता सद्भाव व एकता को प्रदर्शित करा। मदरसा अहमदिया साबरिया में आयोजित।यौमे जम्हूरियत कार्यक्रम में सामाजिक समरसता भाव का मिसाल देखने को मिला।
मदरसा अहमदिया में आयोजित यौमे जम्हूरियत कार्यक्रम के मौके पर प्रखर वक्ताओं ने कहा कि देश की आजादी ऐसे ही नहीं मिली है इसमें देशवासियों का बड़ा योगदान रहा है और इसे हमें नहीं भूलना चाहिए। आज ही के दिन हमें संविधान मिला जिसमें हमें जीने का अधिकार अभिव्यक्ति का अधिकार मिला । यह बात अलग है कि कुछ फिरका परस्त ताकतें संविधान की मूल भावना के साथ चोट पहुंचाने का काम करते हैं ऐसे फिरकापरस्त तत्वों का मुखालफत करना चाहिए। कार्यक्रम को सफल बनाने में स्थानीय युवकों का महत्वपूर्ण योगदान रहा स्थानीय युवकों की मदद से ही भारी बारिश के बाद भी यौमे जम्हूरियत ध्वजारोहण का कार्यक्रम सफल हुआ। कार्यक्रम के अंत में अधिवक्ता गुलाम रहमान खान के द्वारा सभी अतिथियों का आभार व्यक्त किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *