Press "Enter" to skip to content

हाल-ए-जशपुर: Corona काल में यहां हो गया सियासत का ऐसा हाल! Corona के जंजाल में फंसे दो पार्टियों के बीच तीसरा कर रहा है ऐसा कमाल !! पढ़िये पूरी खबर, जानिए क्या है सियासत की नई चाल…..

जशपुर मुनादी || जिले में बहुत ही कम समय मे तीसरी पार्टी जनता के बीच पैठ जमाने मे कामयाब साबित हो रही है। बीते वर्ष 2020 से जिले में शुरू हुए कोरोना वायरस के प्रकोप के बाद जिले में वर्षो से स्थापित 2 राष्ट्रीय पार्टी भाजपा और काँग्रेस के बीच तीसरी राजनीतिक पार्टी आरपीआई (आठवले) का तेजी से प्रसार हुआ है ।

इस वजह से नहीं कि लोग नई पार्टी की विचारधारा से जुड़ रहे है और यहां के लोगो की इस पार्टी की विचारधारा काफी पसंद है, बल्कि लोग इसलिए जुड़ रहे है कि कोरोना संक्रमण की भयावहता के बीच इस पार्टी ने सियासत को दरकिनार करके समाजसेवा का बीड़ा उठा लिया। जिले के सैंकड़ो या हजारों कहें तो अतिशयोक्ति नहीं होगी, जिनको सीधा लाभ मिल रहा है।

आपस में भी भिड़े हुए हैं नेता

आरपीआई के नेता (प्रदेश अध्यक्ष)विजय गुप्ता मार्च 2020 के संक्रमण काल से लेकर corona संक्रमण के वर्तमान हालात तक मे न जाने कितने जरूरतमंदों की मदद कर दी। आपदा के वक़्त जिले में वर्षों-वर्षों से स्थापित राष्ट्रीय पार्टियां जहां corona आपदा के बीच भी सियासत करने से बाज नहीं आ रहे और एक दूसरी पार्टी पर जिम्मेदारियों का ठीकरा फोड़ रहे हैं। वहीं आरपीआई पूरी निष्ठा के साथ आपदा से जूझ रहे लोगों को मदद करने में मशगूल है ।

कोरोना आपदा काल में संक्रमण की चैन तोड़ने के लिए सरकार ने चारों तरफ लॉकडाउन लगा दिया है। इस लॉकडाउन में जिले के दूर दराज इलाके में रहने वाले समाज के अंतिम वर्ग के लोगो के बीच corona वायरस से ज्यादा भोजन पानी की समस्या मुँह बाए खड़ी हो गयी । इस बीच सत्ताधारी काँग्रेस हो या विपक्ष में बैठी भाजपा दोनो केंद्र और राज्य सरकार की आलोचना में जुट गए ।

आमजन की परेशानी को नजरअंदाज कर रही बड़ी पार्टियां

जिले में अचानक बढ़े मौत के ग्राफ और नए मरीजो के आंकड़ों के पीछे दोनों राजनीतिक पार्टियां एक दूसरे की सरकारों को घेरते-घेरते यह भूल गए कि संक्रमण के भय से घरों में कई दिनों से दुबक कर बैठा समाज का अंतिम तबका खायेगा क्या ? अपनी क्षुधा कैसे शांत करेगा?

इस लिंक को कीजिए क्लिक: https://fb.watch/59TXhXRUph/

इनकी बुनियादी जरूरतें कैसे पूरी होंगी? लॉकडाउन लगने के कुछ ही दिन बाद सरकार की ओर से विशेष रूप से संरक्षित विशेष जनजाति समुदाय पहाड़ी कोरवाओं के सामने भूख से तड़पने की नौबत आ गयी। बगीचा के प्रशासन को समाजसेवियों से मदद की अपील करनी पड़ी । ऐसे हालात में भी दोनों राजनीतिक पार्टियों के लोग बस सियासत साधने में जुटे रहे, लेकिन आरपीआई ने सियासत को इस आपदा के वक्त ताख पर रख दिया और इन जरूरतमंदों के बीच मसीहा बनकर सामने खड़े हो गए।

आरपीआई ने इन्हें न केवल राशन मुहैया कराए बल्कि जरूरत पूरी करने के लिए कुछ नकदी रुपये भी दिये। बगीचा, फरसाबहार, सन्ना जैसे सुदूरवर्ती इलाको में रहने वाले जरूरतमंद परिवारों को राशन पानी से लेकर आर्थिक मदद करने में इस पार्टी ने लाखों रुपये खर्च दिए और उन्हें यह भरोसा भी दिया कि इसके अलावे भी उनकी मदद की जाएगी ।

नाजुक वक़्त में लोगों को इलाज और रोटी की जरूरत

आरपीआई के प्रदेश अध्यक्ष विजय गुप्ता ने एक साक्षतात्कार में बताया कि उनकी निजी कमाई का हिस्सा वह इस समाज सेवा में खर्च कर रहे है। इस नाजुक वक़्त में लोगों को इलाज और रोटी की जरूरत है। इलाज के लिए प्रदेश का सिस्टम काम कर रहा है ।

उसके लिए स्वास्थ्य विभाग जिला प्रशासन के लोग लगे हैं, लेकिन लॉकडाउन में रोटी एक बड़ी समस्या बनकर उभरी है। ऐसे में राजनीति करने के बजाय जरूरतमंदों को रोटी पहुंचाना ज्यादा जरूरी है, इसलिए राजनीति से परे हटकर वह केवल और केवल जरूरतमंदों को रोटी मुहैया कराने के काम मे लगे है।

बहस नहीं, समस्या का हल जरूरी

उन्होंने बताया कि उनके पास जरूरतमंदों को रोटी देने के लिए पर्याप्त रुपये हैं। इनके लिए कभी रुपयों पैसों की कमी नहीं आने दी जाएगी। उनका प्रतिदिन 50 हजार की कमाई है और उसी कमाई को वह इस नेक काम में लगा रहे हैं। कौन सी पार्टी क्या कर रही है? कौन नेता क्या कर रहा है या क्या नहीं कर रहा है? इस पर तर्क और बहस करने का सही समय अभी बिल्कुल नहीं है। इस पर बाद में भी बहस या तर्क किया जा सकता है । अभी सिर्फ और सिर्फ सेवा की जरूरत है ।

आपको बता दें कि आरपीआई नेता विजय गुप्ता बीते एक वर्ष से आज तक (corona काल में) जरूरतमंदों के पीछे लाखों रुपये खर्च कर चुके हैं। जरूरतमंदों को सीधे सीधे लाभ पहुंचाने वाले इस नेता की तुलना यहाँ मुंबई के सोनू सूद से की जाने लगी है ।

Munaadi Ad Munaadi Ad Munaadi Chhattisgarh Govt Ad

One Comment

  1. Kumar mukesh soni Kumar mukesh soni April 29, 2021

    जिले में दलगत की राजनीति से ऊपर उठकर rpi के प्रदेश अध्यक्ष द्वारा जिले के दूर अंचल के ग्रामीणों का 2020 से अभी तक और आगे भी ऐसे सहयोग के लिये मैं उन्हें सैल्यूट करता हूँ और ऐसे समय में मैं अपने पार्टी और कांग्रेस दोनों से अपील करता हूँ की ऐसे समय में जरूरत मंद लोगो की सहायता करें । राजनीति के लिये तो पूरा जीवन बाकी है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *