Wednesday, June 3, 2020
Home > Jashpur > इस सबूत से सांसत में आ सकता है वन विभाग! वन अधिकार समिति के चुनाव में बखेड़ा के बाद सामने आया नया बखेड़ा…

इस सबूत से सांसत में आ सकता है वन विभाग! वन अधिकार समिति के चुनाव में बखेड़ा के बाद सामने आया नया बखेड़ा…

जशपुर मुनादी।।

जशपुर जिले के बगीचा के एक गाँव मे वन अधिकार और वन प्रबंधन समिति के गठन को लेकर बीते 24 अगस्त को ग्राम सभा मे उतपन्न विवाद अब जोर पकड़ता जा रहा है।बताया जा रहा है कि जिन आरोपों के चलते वन अधिकार समिति के चयन को बगीचा रेंजर ने रद्द करने के आदेश जारी किए है वो आरोप ही निराधार है। सूत्रों से प्राप्त दस्तावेज के मुताबिक 24 अगस्त को दोनो समितियों के अध्यक्ष चयन हेतु गाँव में बाकायदे मुनादी भी कराई गई थी और ग्राम पंचायत छिछली र के सरपंच ,सचिव वार्ड पंच सहित गाँव के कई लोगों की मौजूदगी में प्रस्ताव पारित किए गए थे लेकिन इसी बीच राजनीतिक रंजिश सामने आ गयी और बेबुनियादी शिकायत करके चुनाव को रद्द करा दिया गया। वन अधिकार समिति के लिए ग्राम सभा के प्रस्ताव से चयनित अध्यक्ष जयशंकर यादव ने बताया कि उनके पास ग्राम सभा के लिए गाँव मे मुनादी कराए जाने से लेकर ग्राम सभा मे प्रस्ताव पारित किए जाने तक के प्रमाण है लेकिन वर्षो से एक ही आदमी का इन दोनों पदों पर एकाधिकार रहा और जब ग्रामसभा ने इस बार अध्यक्ष बदल ढिये तो झूठी शिकायतों को आधार बनाकर विभाग में झूठी शिकायत करवा दी और विभाग के अधिकारी मामले की जमीनी जाँच किये बगैर ग्राम सभा के प्रस्ताव को ही रद्द कर दिया। उन्होंने आगे बताया कि पूरे दस्तावेजी प्रमाण के साथ विभाग के बड़े अधिकारियों से शिकायत करेंगे ।

Munaadi Ad
नया सबूत

आपको बता दें कि छिछली “र”में 24 अगस्त को ग्रामसभा से चयनित समितियों को बगीचा रेंजर ने आदेश जारी कर चुनाव ही रद्द करने के आदेश जारी कर दिए थे ।मुनादी डॉट कॉम ने इस खबर को प्रमुखता से प्रकाशित किया था लेकिन चुनाव रद्द होने के बाद भी मामला शांत होने का नाम नही ले रहा और अब शक का कांटा वन विभाग की ओर घूमता दिख रहा है क्योंकि अगर चुनाव में धांधली हुई तो चुनाव अधिकारी के विरुद्ध कार्यवाही क्यों नही की गई दूसरा ये कि आरोपो की जमीनी जांच के बगैर चुनाव निरस्त के आदेश कैसे जारी कर दिए गए और तीसरा ये कि ग्रामसभा में पारित प्रस्ताव को खारिज कैसे किया जा सकता है ?

Munaadi Ad

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *