Thursday, April 25, 2019
Home > Raigarh > इन्होंने कहा ……… गोवर्धन पूजा का अर्थ प्रकृति से जुड़ाव है ….आप स्वयं इससे ……………..

इन्होंने कहा ……… गोवर्धन पूजा का अर्थ प्रकृति से जुड़ाव है ….आप स्वयं इससे ……………..


दूलोपुर भागवत कथा में श्रद्धालूओं की उमड़ रही भीड़


रायगढ़ मुुनादी।


जिला के पश्चिमांचल मांड नदी के किनारे स्थित ग्राम दूलोपुर में इन दिनों श्रीमद भागवत कथा साप्ताहिक ज्ञान यज्ञ की संगीतमय रसधार बह रही है जिसमें श्रीधाम वृंदावन से पधारी कथा वाचिका देवी राधिका जी द्वारा व्यास पीठ से भागवत कथा के विविध प्रसंगों को अत्यंत ही सुमधुर ढंग से गीत संगीत के साथ सुनाकर श्रद्धालु भक्तों को कृतार्थ किया जा रहा है।कथा के षष्ठम दिवस भागवत कथा क्रम में गोवर्धन धारण लीला,रासलीला प्रसंग को सुनाया गया । गोवर्धन धारण लीला का प्रसंग सुनाते हुए कथा व्यास देवी राधिका जी ने कहा की गोवर्धन पूजा के मर्म को समझें इसका आशय प्रकृति से जुड़ना, पर्यावरण की सुरक्षा करना है । आज हम अपने पर्यावरण को प्रदूषित कर रहे है गंगा मैया को गंदगी से पाट रहे है। भगवत कथा का संदेश है कि हम अपने नदियों को, पर्वतों, वनों को सरंक्षित रखे तभी मानव का जीवन सुरक्षित होगा। कथा के दौरान रास लीला प्रसंग पर रास गीत में उपस्थित महिला पुरुष श्रद्धालुओं ने झूम कर नाचा और रास प्रसंग का आनंद उठाया। कथा में अंचल के प्रतिष्टित जनों की उपस्थिति देखी जा रही है जिसमें जिला पंचा.सदस्य बासुदेव यादव सपत्नीक, जनपद सदस्य राधाबाई पटेल, सामाजिक कार्यकर्ता राकेश पटेल लिटाईपाली , प्राचार्य टी. सी.पटेल, ग्रा.कृ.वि.अ. छबि नायक, श्रीमती मीरा नायक, व्याख्याता भोजराम पटेल, श्रीमती धनमती पटेल, शिक्षक दिनेश पटेल, शिवचरण पटेल, श्याम पटेल, नौरंगपुर से गोकुल पटेल, युवराज सिंह नायक, रामसागर पटेल,अरविंद पटेल, सितंबर पटेल सहित जन प्रतिनिधि एवं गणमान्य नागरिक कथा में शामिल हुए।

पंडाल के अंदर श्रद्धालुओ की भीड़


दुलोपुर में चल रहे भागवत कथा में महिलाओं की उपस्थिति प्रतिदिन बढ़ती जा रही है ग्राम दुलोपुर के अतिरिक्त आस-पास के ग्रामों से श्रद्धालु महिलाएं भारी संख्या में पहुँच कर भागवत कथा के विविध प्रसङ्गो को सुनकर मुग्ध हो रही है महिलाओं की संख्या इस कदर बढ़ रही है कि उनके लिए पंडाल छोटा पड़ जा रहा है और पंडाल को प्रतिदिन बढ़ाना पड़ रहा है ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *