Saturday, December 7, 2019
Home > Jashpur > परफार्मेंस से नाराज कलेक्टर ने जिले के बीएमओ को लिया आड़े हाथ,कहा-,सुधर जाईये और सुधार लाइये …जानिए क्यों नाराज हुए कलेक्टर निलेश …..

परफार्मेंस से नाराज कलेक्टर ने जिले के बीएमओ को लिया आड़े हाथ,कहा-,सुधर जाईये और सुधार लाइये …जानिए क्यों नाराज हुए कलेक्टर निलेश …..


जशपुरनगर 02 दिसम्बर 2019/ कलेक्टर निलेशकुमार महादेव क्षीरसागर ने शनिवार को कलेक्टोरेट सभाकक्ष में जिला स्वास्थ्य समिति की में स्वास्थ्य विभाग के योजनाओं एवं कार्यक्रमों की गहन समीक्षा की। कलेक्टर ने मातृत्व स्वास्थ्य अन्तर्गत ए.एन.सी. पंजीयन एवं प्रथम त्रैमास में ए.एन.सी.पंजीयन तथा चार या चार से अधिक ए.एन.सी.चेकअप में चेकअप में लापरवाही एवं उदासीनता बरतने के मामले में नाराजगी जताई और मनोरा, लोदाम, बगीचा, पत्थलगांव, दुलदुला एवं फरसाबहार के खण्ड चिकित्सा अधिकारियों एवं खण्ड कार्यक्रम प्रबंधकों को एक माह के भीतर परफोरमेंस में सुधार लाने की चेतावनी दी।
कलेक्टर ने बैठक में संस्थागत प्रसव की स्थिति की समीक्षा करते हुये कहा कि संसाधन एवं सुविधा होने के बावजूद भी उप स्वास्थ्य केन्द्र सेमरकछार विकासखण्ड कांसाबेल में संस्थागत प्रसव न कराया जाना उचित नहीं है। उन्होंने वहां पदस्थ महिला स्वास्थ्य कार्यकर्ता का वेतन रोकने के निर्देष मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी एवं संबंधित खण्ड चिकित्सा अधिकारी को दिये। उप स्वास्थ्य केन्द्र जहां संसाधन होने के बावजूद न्यूनतम संस्थागत प्रसव कराने वाले उप स्वास्थ्य केन्द्र क्रमषः चोगरीबहार, पोंगरो, टांगरगांव (वि.ख.कांसाबेल) खुटापानी (वि.ख.मनोरा), बेलडेगी (वि.ख.पत्थलगांव), खुटगांव, गोलीडिह (वि.ख.फरसाबहार), झिक्की, हुकराकोना, डुमरटोली, सरईपानी (वि.ख.बगीचा), ढारेन (वि.ख.दुलदुला) पिलखी, निमगांव, पीड़ी (वि.ख.लोदाम) के महिला स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं को अपने स्वास्थ्य संस्था में अपेक्षित संस्थागत प्रसव नही कराने के लिए, कारण बताओ नोटिस जारी करने के निर्देष मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी को दिये।
कलेक्टर द्वारा उप स्वास्थ्य केन्द्र पाकरगांव (वि.ख.पत्थलगांव) में औसतन 40 संस्थागत प्रसव प्रतिमाह कराए जाने पर संतोष जाहिर करते हुये उक्त स्वास्थ्य संस्था की महिला स्वास्थ्य कार्यकर्ता को विषेष आयोजन में सम्मानित करने हेतु प्रस्ताव भेजने के निर्देष दिये । पाकरगांव में स्वास्थ्य सेवाओं को और बेहतर बनाने के लिये आवश्यकतानुसार जिला खनिज न्यास निधि से राशि भी स्वीकृत करने की बात कही।
कलेक्टर ने संपूर्ण टीकाकरण में जिले की कमजोर स्थिति को देखते हुए समस्त विकासखण्ड के खण्ड चिकित्सा अधिकारियों एवं खण्ड कार्यक्रम प्रबंधकों के काम काज पर नाराजगी जताई। कलेक्टर ने जिला कार्यक्रम प्रबंधक गनपत कुमार नायक को 15 दिवस के भीतर सुदृढ़ कार्ययोजना बनाकर सभी विकासखण्डों में खण्ड चिकित्सा अधिकारी एवं खण्ड कार्यक्रम प्रबंधक के माध्यम से लाभार्थी बच्चों का शत् प्रतिषत् पूर्ण टीकाकरण कराने के निर्देष दिये गये।
बैठक में समस्त खण्ड चिकित्सा अधिकारी एवं खण्ड कार्यक्रम प्रबंधक को मातृ मृत्यु एवं षिषु मृत्यु अंकेषण समय सीमा में पूर्ण कर सुधारात्मक कार्यवाही करने के निर्देष दिये गये। गैर संचारी रोग में 30 वर्ष से अधिक उम्र के सभी व्यक्तियों का डायबिटिज/षुगर, मुख कैंसर तथा महिलाओं में सरवाईकल एवं स्तन कैंसर की जाॅंच समय सीमा में पूर्ण करने के निर्देष दिये गये। जिले के समस्त हेल्थ एण्ड वेलनेस सेण्टर के उन्नयन एवं ब्रांडिग कार्य हेतु कार्यपालन अभियन्ता सी.जी.एम.एस.सी. लिमिटेड अम्बिकापुर को समय सीमा में पूर्ण कर विभाग को हस्तांतरित करने हेतु निर्देषित किया गया।
मुख्यमंत्री हाट बाजार क्लीनिक योजना अन्तर्गत अधिकतम लोगो को लाभ प्राप्त हो, इस हेतु समस्त खण्ड चिकित्सा अधिकारियों को जनपद सी.ई.ओ. से समन्वय कर गांव गांव में उक्त योजना का प्रचार-प्रसार करने हेतु निर्देषित किया गया। मुख्यमंत्री सुपोषण योजना अन्तर्गत 15 से 49 वर्ष तक की समस्त महिलाओं का 31 दिसम्बर 2019 तक हिमोग्लोबिन जाॅंच पूर्ण कर एनिमिक महिलाओं का उपचार प्रारंभ करने के निर्देष दिये गये।
बैठक में प्रभारी अधिकारी स्वास्थ्य विभाग, मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी, जिला महिला बाल विकास अधिकारी, जिला षिक्षा अधिकारी, जिला स्वास्थ्य अधिकारी एवं अन्य कार्यक्रम अधिकारी तथा समस्त खण्ड चिकित्सा अधिकारी, जिला कार्यक्रम प्रबंधक एवं समस्त खण्ड कार्यक्रम प्रबंधक तथा महिला बाल विकास विभाग के सी.डी.पी.ओ. उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

[bws_google_captcha]