Monday, February 17, 2020
Home > Raigarh > दिखने लगा टेबलेट का असर ….. इस बात से परेशान होकर पहुंच गए एमएलए के दरबार मे ….समस्या ऐसी की ….रिकवरी में लाखों के ….

दिखने लगा टेबलेट का असर ….. इस बात से परेशान होकर पहुंच गए एमएलए के दरबार मे ….समस्या ऐसी की ….रिकवरी में लाखों के ….

रिकवरी से परेशान राशन दुकान संचालकों ने की विधायक से शिकायत

दिखने लगा टेबलेट का साइड इफेक्ट,दुकानदारों की उड़ी नींद

धरमजयगढ़ मुनादी –  असलम खान

Munaadi Ad

धरमजयगढ़ जनपद पंचायत कार्यालय पहुंच सरकारी राशन दूकान संचालकों ने क्षेत्रीय विधायक एवं केबिनेट मंत्री विधायक लालजीत सिंह राठिया से शिकायत की सैकड़ो की तादाद में राशन दूकानदार विधायक लालजीत सिंह राठिया से अपनी गंभीर परेशानी का दुखड़ा रोते हुए इसका शबब जानना चाहे,वहीँ शिकायत करते हुए कहा, की खाद्यान वितरण टेबलेट ने हमारी मुशीबत बढ़ा दी है.हर माह आरोही क्रम में अनाप-सनाप आबंटन एवं भारी भरकम बचत दिखाया जा रहा है जिससे हम लोग ख़ासा परेशान हैं. समूह में 150 क्विंटल तो कहीं 200 ,से 400 तक चावल बचत आ रहा है। जबकि दुकानदारों का कहना हैं सभी हितग्राहियों को समय से उचित राशन वितरण किया जा चूका है।
शिकायत सुनने के बाद विधायक लालजीत सिंह राठिया ने खाद्य अधिकारी काम्टे को तत्काल मौके पर तलबकर मामले को बारीकी से समझा,फिर अधिकारी को खरी खोटी सुनाते हुए लंबी जानकारी ली साथ ही सभी दूकान संचालकों से मामले पर ऊपर बात करने का आश्वासन दिया।

बता दें धरमजयगढ़ क्षेत्र के करीब 110 राशन दुकानों में भारी भरकम बचत आया है लिहाजा दूकान संचालक हैरान परेशान हैं। साथ ही यह भी बता दें कुछ दुकानदारों का कहना है ऑन लाइन राशन वितरण टेबलेट में हर रोज बचत का आंकड़ा जादू की तरह बड़ घट रहा है ।
ऐसे में यहाँ सवाल उठता है सालों से आन लाइन टेबलेट से राशन वितरण हो रहा है तो स्थानीय प्रशासन अब तक क्या कर रहा था?अधिकारीयों द्वारा दूकान का स्टॉक पंजी, वितरण पंजी का अवलोकन क्यों नहीं किया गया? ऐसे कई सवाल हैं जो दूकान संचालक और खाद्यविभाग की सांठ गाँठ की ओर इशारा कर रहा है. इसे अब टेबलेट का जादू कह लें या टेबलेट का साइड इफेक्ट ,या कुछ और फ़िलहाल राशन दुकानदारों की नींद उड़ी हुई हैं मामला उनकी समझ से परे हैं.
 अलबत्ता इस गंभीर मामले पर बारीकी से जांच की आवश्यकता ज़रूर है  ।

munaadi ad

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

[bws_google_captcha]