Press "Enter" to skip to content

कोरोना की तीसरी लहर बच्चों पर बरपाएगी कहर! कैसे बचेंगे नैनिहाल…..कितनी तैयार है केंद्र सरकार

डेस्क मुनादी।। कोरोना महामारी की लहर की चपेट में आने के बाद पूरा देश इस गंभीर बीमारी से लड़ रहा है वही देश में अब तीसरी लहर आने की संभावना ने सभी के रोंगटे खड़े कर दिए हैं। कोरोना वायरस की तीसरी लहर से बचने के लिए सभी देश तैयारी में लगे हुए हैं।

हाल ही में सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र सरकार से कोरोना की तीसरी लहर से जूझने की तैयारी के बारे में कई सवाल उठाए हैं। कोर्ट का कहना है कि यदि कोरोना की तीसरी लहर ने मासूम बच्चों को अपने चपेट में लिया, तो केंद्र इससे कैसे निपटेगा। सुप्रीम कोर्ट ने कोरोना की तीसरी लहर में बच्चों पर पड़ने वाले प्रभाव से बचने के लिए तैयारी की जानकारी मांगी और इस लहर से बचने के लिए पहले से इंतजाम किए जाने की बात कही। ताकि आने वाली गंभीर परिस्थितियों से मासूमों को बचाया जा सके।

जानिए वैज्ञानिकों ने क्या कहा?

जानकारी के मुताबिक वैज्ञानिकों का कहना है कि कोरोना की है। तीसरी लहर अत्यंत घातक है जो छोटे बच्चों पर अधिक प्रभाव दिखा सकता है। इससे बचने के लिए पूरी तैयारी की आवश्यकता है, क्योंकि अब पहले से भी अधिक शक्तिशाली और आक्रमणकारी हो सकता है।

स्वास्थ्य विशेषज्ञों का कहना है कि महामारी के प्रत्येक लहर में अलग-अलग आयु वर्ग के लोग चपेट में आए हैं। भारत में पिछले साल मार्च-अप्रैल में कोरोना की जो पहली लहर आई उसमें 50 साल से ज्यादा उम्र के लोग महामारी की चपेट में आए। दूसरी लहर में इस महामारी ने 50 साल से कम और 30 साल के ऊपर के लोगों को निशाना बनाना शुरू किया। चूंकि, भारत में अब 18 साल से ऊपर के व्यक्तियों को टीकाकरण जारी है। अगले कुछ महीने में 18 साल से ऊपर ज्यादातर लोगों को कोरोना का टीका लग चुका होगा। ऐसे में तीसरी लहर 0-18 साल के बीच के बच्चों एवं किशोरों को अपने गिरफ्त में ले सकती है।

Munaadi Ad Munaadi Ad Munaadi Chhattisgarh Govt Ad

Be First to Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *