Wednesday, May 22, 2019
Home > Top News > फरसाबहार जनपद उपाध्यक्ष की “ठेकेदारी ” पर सिंचाई विभाग की ठाय !ठाय !!  कहा- सरासर गलत है ,हम शिकायत करेंगे …

फरसाबहार जनपद उपाध्यक्ष की “ठेकेदारी ” पर सिंचाई विभाग की ठाय !ठाय !!  कहा- सरासर गलत है ,हम शिकायत करेंगे …

जशपुर मुनादी ।।

 

जशपुर जिले के फरसाबहार में जनपद उपाध्यक्ष और सिंचाई विभाग के बीच जमकर ठन गयी है। दरसल, जनपद उपाध्यक्ष ने सिंचाई विभाग के बगैर अनुमति के सिंचाई विभाग के एक कैनाल के उपर सरकारी फंड से पुलिया निर्माण का काम शुरू कर दिया है और सिंचाई विभाग जनपद उपाध्यक्ष के इस कृत्य को गलत बताकर उच्चाधिकारियो से शिकायत करने की बात कह रहा है ।

 

 

 

जानिए क्या है विवाद और कौन क्या बोल रहा है ?

 

 

जशपुर जिले के फरसाबहार जनपद उपाध्यक्ष के द्वारा बनाये जा रहे एक पुलिया को लेकर विवाद उठ खड़ा हुआ है । बताया जा रहा है कि उपाध्यक्ष राजू सिंह के द्वारा अंकिरा में सिंचाई विभाग के कैनाल के उपर एक पुलिया का  निर्माण कर रहे हैं । इसमें विवाद तब खड़ा हो गया जब लोगो को यह पता चला कि पुलिया का निर्माण बगैर सिंचाई विभाग की जानकारी के हो रहा है सिंचाई विभाग से इसकी कोई अनुमति नही ली गयी है । यह बात जंगल मे आग की तरह फैल गई और बात फैलते फैलते सिंचाई विभाग के आला अफसरों तक जा पहुचा ।अब विभाग के अधिकारी इस काम को गलत बताने में लग गए है। सिंचाई विभाग के फरसाबहार एसडीओ पन्ना ने मुनादी डॉट कॉम को दूरभाष पर बताया कि उन्हें आज ही इस बात की जानकारी मिली है कि अंकिरा के राजा डैम कैनाल के ऊपर किसी के द्वारा पुलिया का निर्माण किया जा रहा है । उन्होंने कहा कि यह कैनाल सिंचाई विभाग का है और सिंचाई विभाग के बगैर एनओसी लिए अगर कोई निर्णाण हो रहा है तो सरासर गलत है हम विभाग के उच्च अधिकारियों से इसकी शिकायत करेंगे।

 

 

 

उपाध्यक्ष ने क्या कहा …..?

 

 

इधर मुनादी डॉट कॉम ने जब जनपद उपाध्यक्ष राजू सिंह से सम्पर्क किया तो उन्होंने बताया कि कैनाल को मरम्मत करने के लिए सिंचाई विभाग को बार बार बोला गया लेकिन विभाग से उनकी कोई सुनवाई नही हुई जिसके चलते बरसात में मुहल्ले में गंदगी और गंदा पानी प्रवेश कर जाता है । अबकी बार बरसात को देखते हुए जनपद बिकास निधि से उन्होंने पूल निर्माण का काम शुरू क दिया गया है  ।

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *