Press "Enter" to skip to content

कांग्रेस का पूर्व मुख्यमंत्री डॉ.रमन सिंह और भाजपा पर ताबड़तोड़ हमला, मंदिर का चंदा और उगाही का … पढ़िए पूरी खबर

रायपुर मुनादी।। राम मंदिर निर्माण में चंदे को लेकर अब सियासत शुरू हो गई है। कांग्रेस की ओर से लगातार भाजपा के नेताओं पर निशाना साधा जा रहा है। कांग्रेस के वरिष्ठ प्रवक्ता आरपी सिंह ने एक बयान जारी कर पूर्व मुख्यमंत्री और वर्तमान में भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष डॉ. रमन सिंह पर निशाना साधा है। अगर भाजपा से राम मंदिर निर्माण के चंदे का हिसाब मांगना रामहित को प्रभावित करता है तो फिर आप जनहित में पनामा घोटाले का हिसाब ही बता दें।

कांग्रेस प्रवक्ता आरपी सिंह ने सवाल खड़ा किया है कि ऐसे समय में जब राम जन्म भूमि विवाद का निपटारा माननीय उच्चतम न्यायालय द्वारा कर दिया गया है। जो सभी पक्षों को मान्य भी है। ऐसे समय में भारतीय जनता पार्टी और उनके आनुषंगिक संगठनों द्वारा राम मंदिर निर्माण के लिए चंदा मांगना कहीं अपनी जेब भरने का उपक्रम तो नहीं है।

ये पढ़ें: कोरोना का टीका शुरू होने से पहले ही भड़क गए स्वास्थ मंत्री के करीबी नेता, अस्पताल में ही लगें चिल्लाने, वीडियो हुआ वायरल तो सामने आए नेता जी, कहा-इसलिए किया हंगामा तो बीएमओ ने कहा…ये केवल ..देखिये वायरल वीडियो, पढ़िए पूरी खबर

प्रवक्ता सिंह ने कहा है कि चंदे पर सवाल उठाना अगर ‘रामहित’ प्रभावित करता है तो डॉक्टर रमन सिंह को अब “जनहित“ में पनामा घोटाले का हिसाब छत्तीसगढ़ की जनता को देना चाहिए। जब यह स्पष्ट हो चुका है कि ‘अभिषाक सिंह’ ही उनके बेटे ‘अभिषेक सिंह’ हैं और डॉ. रमन सिंह ही वह व्यक्ति हैं जिनका पता ‘रमन मेडिकल स्टोर, कवर्धा है। तब प्रदेश की जनता को सब कुछ जानने का अधिकार है। डॉक्टर रमन सिंह को प्रदेश की जनता को पनामा कांड के घोटाले से जुड़े हुए सभी तथ्यों से अवगत कराना चाहिए।

चंदा मांगने पर उठाए सवाल

माननीय उच्चतम न्यायालय के आदेश में यह स्पष्ट है कि केंद्र सरकार राम मंदिर निर्माण के लिए एक ट्रस्ट का गठन करेगी और ट्रस्ट जन सहयोग से वहां भव्य राम मंदिर का निर्माण करेगा। माननीय उच्चतम न्यायालय के फैसले में कहीं भी इस बात का जिक्र नहीं है कि राम मंदिर निर्माण के लिए आर.एस.एस., विश्व हिंदू परिषद या फिर भारतीय जनता पार्टी चंदा मांगने के लिए अधिकृत है। जब भाजपा, संघ और उसके अन्य किसी आनुषंगिक संगठन के चंदा मांगने की बात माननीय उच्चतम न्यायालय के फैसले में नहीं है तो फिर चंदा मांगने का अधिकार इन्हें कहां से मिला।

Munaadi Ad Munaadi Ad Munaadi Chhattisgarh Govt Ad

Be First to Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *