Press "Enter" to skip to content

अगर ये हाल रहा तो छत्तीसगढ़ में विफल हो सकता है वैक्सीनेशन! टीके मिलेंगे तो लगेंगे…..जानिए CM बघेल ने खत लिखकर पीएम मोदी से और क्या-क्या कहा?

रायपुर मुनादी || पूरे देश में 1 मई से 18 साल से अधिक उम्र के लोगों को टीका लगाने की घोषणा की गई थी। लेकिन छत्तीसगढ़ में भी टीकाकरण को लेकर अभी संशय बना हुआ है, क्योंकि वैक्सीन पर्याप्त मात्रा में उपलब्ध नहीं है। वैक्सीन की उपलब्धता की कमी के कारण राजस्थान, महाराष्ट्र ने फिलहाल इसे टाल दिया है। इसके अलावा कई राज्यों में 1 मई से वैक्सीनेशन शुरू होगा या नहीं, कुछ भी क्लियर नहीं है।

बता दें कि राज्य सरकार ने 50 लाख वैक्सीन का ऑर्डर सीरम इंस्टीट्यूट और भारत बायोटेक को दिया है। प्रदेश सरकार ने 18 साल से ऊपर के लोगों को मुफ्त वैक्सीन देने का वादा भी किया है और टीके का ऑर्डर भी दे दिया है, लेकिन टीके तभी लग पाएंगे जब तय वक्त पर वैक्सीन मिलेगी।

ऐसे में छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री ने भी वैक्सीन की उपलब्धता को लेकर प्रधानमंत्री को पत्र लिखा है। सीएम ने लिखा है कि आवश्यक वैक्सीन डोज मिलने में छत्तीसगढ़ को पूरा वर्ष निकल जायेगा। अगर ये हाल रहा तो छत्तीसगढ़ में वैक्सीनेशन विफल हो सकता है।

पत्र में लिखे गए महत्वपूर्ण बिंदु :

  • सीएम ने कोविड वैक्सीन की राज्य में पर्याप्त उपलब्धता सुनिश्चित करने के लिए आवश्यक कदम उठाने की मांग की है।
  • कोविड वैक्सीन से सारे टैक्स हटा लिए जाने चाहिए, ताकि ये कम से कम दामों पर सभी के लिए उपलब्ध हो सके।
  • 1 मई से 18 वर्ष से अधिक आयु के सभी लोगों को वैक्सीन लगवाने के लिए केंद्र द्वारा बनाई गई कार्य योजना से राज्यों को अवगत कराएं।
  • साथ ही सभी राज्यों में वैक्सीन आबंटन जनसंख्या और पॉजिटिविटी रेश्यो, एक्टिव पेशेंट रेश्यो को ध्यान में रखते हुए किया जाये. ताकि देश के सभी राज्यों में एक साथ वैक्सीनेशन शुरू हो सके।
  • आपके द्वारा वैक्सीन के दामों को लेकर आश्वासन दिया गया है। हमारा अब भी आग्रह है कि एक वैक्सीन एक दाम की नीति अवश्य लाई जाये।
  • पूरे देश के 18 वर्ष से अधिक आयु के लोगों को वैक्सीन लगाने के लिए 150-200 करोड़ वैक्सीन डोज की आवश्यकता होगी, भारत बायोटेक और सीरम इंस्टीट्यूट की वैक्सीन निर्माण क्षमता कम लग रहा है।
  • छत्तीसगढ़ की 2 करोड़ 90 लाख की आबादी में एक आंकलन के अनुसार लगभग 1 करोड़ 30 लाख लोग 18-44 वर्ष आयु समूह के हैं, जिन्हें कुल 2 करोड़ 60 लाख डोज लगनी है।
  • 45 से अधिक आयु के 58.7 लाख लोगों में से 72 फीसदी का वैक्सीनेशन किया जा चुका है।
  • राज्य में फ्रंट लाइन वर्कर को मिलाकर अबतक 47.75 लाख लोगों को कोविड वैक्सीन की प्रथम डोज और 6 लाख 34 हजार लोगों को दूसरी डोज कुल 54 लाख से ज्यादा डोज वैक्सीन लगाई जा चुकी है।

सीएम बघेल ने पत्र में इस बात का भी जिक्र किया है कि छत्तीसगढ़ में प्रतिदिन 3 लाख डोज वैक्सीन लगाने की क्षमता है। सरकार वैक्सीनेशन की आदर्श व्यवस्था छत्तीसगढ़ में बनाना चाहती है, इसलिए वैक्सीन की उपलब्धता, मूल्य के संबंध में अत्यावश्यक जानकारियों के लिए प्रधानमंत्री कार्यालय, केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री डॉ. हर्षवर्धन, सीरम इंस्टीट्यूट और भारत बायोटेक को पत्र लिखा गया था।

सीएम ने लिखा है मामले में अब तक सिर्फ भारत बायोटेक ने ई-मेल के माध्यम से लिखित में छत्तीसगढ़ सरकार को अवगत कराया है। जिसमें कहा गया है कि वे 25 लाख डोज को-वैक्सीन की आपूर्ति जुलाई 2021 के अंततक करने का प्रयास करेंगे। भारत बायोटेक ने सिर्फ 25 लाख डोज उपलब्ध कराने के लिए 3 महीने का समय मांगा है। ऐसे में आवश्यक वैक्सीन डोज मिलने में छत्तीसगढ़ को पूरा वर्ष निकल जायेगा, अगर ये हाल रहा तो छत्तीसगढ़ में वैक्सीनेशन विफल हो सकता है।

Munaadi Ad Munaadi Ad Munaadi Chhattisgarh Govt Ad

Be First to Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *