Thursday, June 27, 2019
Home > Top News > 4 साल में नही बन पाया महिला जेल, विभागीय अधिकारियों की लापरवाही का खामियाजा ……

4 साल में नही बन पाया महिला जेल, विभागीय अधिकारियों की लापरवाही का खामियाजा ……

कोरिया से अनूप बड़ेरिया की मुनादी

कोरिया ज़िले में महिला जेल की स्वीकृति हुए 4 साल से भी ज्यादा का समय व्यतीत हो चुका है। बावजूद इसके विभागीय अधिकारियों की लापरवाही से आज तक जिला जेल आरम्भ नही हुआ है। जबकि जेल विभाग द्वारा 2.31 लाख ₹ राशि स्वीकृत कर पीडब्ल्यूडी विभाग को दे दी गयी है।

सबसे प्रमुख बात यह है कि महिला जेल के लिए कोई अलग से बिल्डिंग नही बनानी है बल्कि पुरुष जिला जेल में ही में ही दीवार खींच कर केवल शौचालय का निर्माण करना है। बैरक आदि पहले से बने हुए है। लेकिन इसके बाद भी पीडब्ल्यूडी के अधिकारी ठेकेदार से काम नही करा पा रहे हैं। बताया जाता है कि दो साल पहले ठेकेदार ने एक दिन काम लगाया था लेकिन उसके बाद बन्द कर दिया।

उल्लेखनीय है कि कोरिया जिला में महिला जेल नही है। किसी भी मामले में कोर्ट के आदेश के बाद बैकुंठपुर से 90 किमी दूर अम्बिकापुर स्थित महिला जेल भेजना पड़ता है। जिससे आरोपी महिला व उसके परिजनों के साथ पुलिस बल को भी परेशानी का सामना करना पड़ता है। दिक्कत तो परिजनों को उस वक्त होती है जब 90 किमी दूर बैकुंठपुर से महिला जेल में बंद किसी बन्दी से मिलने जाते और सफर में देरी की वजह से मिलने का समय समाप्त हो जाता है। उस वक्त महिला बन्दी और उनके परिजनों की पीड़ा का अंदाजा लगाया जा सकता है।

इस सम्बंध में जेलर आरएस सिंह ने बताया कि पीडब्ल्यूडी विभाग की लापरवाही से काम रुका पड़ा है। निर्माण कार्य पूरा होते ही महिला प्रहरियों की नियुक्ति कर दी जाएगी। उसके बाद महिला जेल आरम्भ हो जाएगा।

पीडब्ल्यूडी के एसडीओ एसके मिश्रा ने बताया कि ठेकेदार का विभाग का अन्य कार्य का भुगतान रुका हुआ था। जिससे वह जेल का कार्य नही कर रहा था। अब निर्माण कार्य मे समय सीमा बढ़ा दी गयी है। ठेकेदार से बात भी हो गयी है, जल्द ही जेल का काम पूरा करा दिया जाएगा।

Munaadi Ad

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *