Press "Enter" to skip to content

Munaadi Breaking:-सूरजपुर व बलरामपुर जिले में हाथी की मौत की जांच के लिए कल केंद्रीय दल पहुंचेगा अम्बिकापुर, हाथियों की मौत की रिपोर्ट जाएगी दिल्ली, करंजवार में हाथी की मौत, जांच में शामिल नही ?

सरगुजा संभागीय ब्यूरो।।

Munaadi Chhattisgarh Govt Ad

प्रदेश में हाथियों की मौत को लेकर केंद्रीय पर्यावरण, वन एवं जलवायु परिवर्तन मंत्रालय के निर्देश पर कल अम्बिकापुर में केंद्रीय दल पहुंच रहा है। केंद्रीय टीम में नेशनल एलिफेंट प्रोजेक्ट के को-ऑर्डिनेटर व साइंटिस्ट है, जो सूरजपुर सहित बलरामपुर में हाथियों की मौत पर विभिन्न पहलुओं की जांच करेगा, लेकिन इस बीच यह भी जानकारी मिल रही है कि वन विभाग ने करंजवार में मृत हाथी के मामले को केंद्रीय दल के समक्ष नहीं रखा है, दल के समक्ष सिर्फ तीन हाथी की मौत की रिपोर्ट सौंपी गई है।

पिछले 9 व 10 जून के दरमियान तीन हाथियों की मौत पर चिंतित केंद्रीय पर्यावरण, वन एवं जलवायु परिवर्तन मंत्रालय ने इसके प्रत्येक पहलू की जांच के लिए अपनी केंद्रीय टीम को छत्तीसगढ़ भेजा है। यह दल आज धरमजयगढ़ के बाद कल अम्बिकापुर पहुंच जाएगा। मिली जानकारी के अनुसार इस दल में डॉ सेल्वन व प्रजना पंडा है, जो हाथियों की मौत से संबंधित सभी मामलों की बारीकी से जांच करते हुए अपनी रिपोर्ट केंद्र में सौपेंगे। दल के पहुंचने की जानकारी सीसीएफ एबी मिंज ने दी है।

विभाग छिपा रहा है चौथे हाथी की मौत को ?

मिली जानकारी के अनुसार वन विभाग सूरजपुर में दो व बलरामपुर में एक हाथी कुल तीन हाथी की मौत की जानकारी केंद्रीय दल के समक्ष रख रहा है, जो 9 व 10 जून के दौरान हुई थी। जबकि इस बीच 11 मई को प्रतापपुर रेंज मुख्यालय के समीप ही एक अन्य हाथी का सड़ा हुआ शव मिला था, जिसके बारे में चिकित्सको का अनुमान है कि संभवतः इस हाथी की मौत एक से डेढ़ माह पूर्व हुई होगी। यह भी संभावना जताई जा रही है कि यह हाथी उसी ‘बांकी-दल’ का सदस्य हो सकता है, जिस दल के तीन अन्य हाथियों की मौत 9-10 जून को हुई थी। मिली जानकारी के अनुसार विभाग ने इस मामले को अपनी जांच में शामिल नहीं किया है, जबकि चौथे हाथी की मौत बड़ा मामला है, जिसमें विभाग की लापरवाही नजरअंदाज नहीं की जा सकती है।

Munaadi Ad

Be First to Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *