Saturday, December 7, 2019
Home > समाचार > Munaadi Breaking- बीमार शेड्यूल एक के भालू की लापरवाही से हो गई मौत ….अधिकारी एसी कमरे से करते रहे ….डीएफओ पर कार्रवाई की मांग

Munaadi Breaking- बीमार शेड्यूल एक के भालू की लापरवाही से हो गई मौत ….अधिकारी एसी कमरे से करते रहे ….डीएफओ पर कार्रवाई की मांग

रायगढ़ मुनादी।

आखिरकार वन विभाग की लापरवाही ने एक और शेड्यूल 1 के वन्य जीव भालू की मौत के जिम्मेदार हो गए हैं। पिछले दिनों बीमार भालू को खरसिया से रायगढ़ शिफ्ट किया गया।था। जिसके समुचित इलाज के अभाव में मौत हो गया। जिले में इसके लिए विशेषज्ञ चिकित्सक नही होने की वजह से वन विभाग के अधिकारियों से कई बार कानन पेंडारी भेजने का निवेदन आग्रह किया गया था लेकिन अधिकारी वन्य जीवों की सुरक्षा से जुड़े लोगों की बातों को लगातार अनसुना करते रहे।

आज ही वन्य जीवों की सुरक्षा से जुड़े गोपाल अग्रवाल के द्वारा प्रधान मुख्य वन संरक्षण को पत्र लिखकर बीमार भालू को लेकर पत्र लिखा है। बीमार भालू को डीएफओ और एमडीओ के द्वारा महज खाना पूर्ति करते हुए इंदिरा विहार में बदइंतजामी के बीच रखा गया जहां न तो भालू के बीमारी का समुचित इलाज की व्यवस्था की गई और न ही उसके समुचित देखभाल के लिए अनुभवी लोगो या कर्मचारियो को कानन पेंडारी से बुलाया गया था। यहाँ तक कि डीएफओ और एसडीओ से बीमार भालू के इस तरह से रखे जाने को लेकर आशंका व्यक्त करते हुए बार बार कानन पेंडारी भेजे जाने का निवेदन किया गया लेकिन अधिकारी टस से मस नही हुए जिसकी वजह से आज भालू की मौत हो गई।
गोपाल अग्रवाल का कहना है कि भालू पिछले 3 दिनों से अपनी हालात पर तड़प रहा था और अनुभवहीन डॉक्टर से उसका समुचित इलाज कराया जा रहा था। भालू की मौत के बाद जिला मुख्यालय के वन अफ़सर निशाने पर आ गए हैं। चूंकि भालू को वन विभाग द्वारा शेड्यूल एक कि श्रेणी में रखा है और मुख्यालय के अधिकारी ही अधिकारी इस वन्य जीव के मौत के जिम्मेदार है। इन पर कार्रवाई की मांग की जा रही है। यदि अधिकारी उसी समय कानन पेंडारी भेज दिया जाता तो वहां विशेसज्ञ डॉक्टरो द्वारा उसका समुचित इलाज कर बचाया जा सकता था।


खास बात ये है कि कहा जा रहा है कि इस शेड्यूल एक के बीमार वन्य जीव को देखने और उसके इलाज की समुचित व्यवस्था क्या किया गया है किस तरह रखा गया है एक दिन भी देखने तक नही गए।

डीएफओ से भालू को लेकर वस्तु स्थिति जानने उनके मोबाइल पर सम्पर्क भी किया गया था लेकिन उन्होंने मोबाइल रिसीव नही किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

[bws_google_captcha]