Press "Enter" to skip to content

जशपुर का डोडकी नदी फिर से विवादों में, पानी मे बह गया मिट्टी का पूल …..देखिये वीडियो ,फिर नगरवासियों ने कैसे किया….

जशपुर मुनादी।।

बगीचा का दोड़की नदी पुल एक बार फिर विवादों में आ गया है। बगीचा न.प. के वार्ड क्र.03,04,05 को ग्रामीणों को लाभ पहुंचाने के लिए तत्कालीन pwd मंत्री राजेश मूणत ने पुल निर्माण के लिए 3करोड़ 77 लाख 18 हजार रु.की स्वीकृति 9 फरवरी 2018 के आदेश में दी थी।खाश बात यह है कि इस नदी में पुल निर्माण के लिए ग्रामीणों और जनप्रतिनिधियों ने 3 दिनों तक जल सत्याग्रह किया था जिसको देखते हुवे जशपुर राजघराने की बड़ी बहुरानी प्रियंवदा सिंह जूदेव खुद नदी में उतरकर ग्रामीणों को जल्द पुल बनवाने का आश्वाशन दिया था और पुल निर्माण का भूमिपूजन भी किया था।


पुल निर्माण की स्वीकृति होने के बाद निर्माण कार्य किसी प्राइवेट कॉन्ट्रेक्टर को मिला।जिसने निर्माण में लापरवाही करते हुवे 1 साल में भी पुल का निर्माण नही किया । और मिट्टी डाल कर अस्थाई पुल बना दिया।


बीती रात नदी में पानी बढ़ जाने से वो मिट्टी का पुल बह गया । जिसके मरम्मत के लिए न तो ठेकेदार और न ही कोई सरकारी पहुँचा। जिसके बाद ग्रामीण खुद ही पुल निर्माण के लिए नदी में उतर गए ,और घंटों मेहनत के बाद पुल का निर्माण ग्रामीणों ने किया।

Munaadi. com के व्हाट्सएप्प ग्रुप से जुड़ने के लिए इस लिंक पर क्लिक करें

लेकिन मुख्य बात यह है कि क्या मिट्टी का अस्थाई पुल बाह जाने के बाद क्या ठेकेदार की या पंचायत की कोई जिम्मेदारी नही है कि ग्रामीणों के लिए तत्कालीन व्यवस्था की जाए।अगर ग्रामीणों को पुल निर्माण में तेज बहाव से कोई हानि होती तो इसका जिम्मेदार कौन होता।

Munaadi Ad
Munaadi Ad Munaadi Ad Munaadi Chhattisgarh Govt Ad

Be First to Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *