Saturday, September 21, 2019
Home > Top News > प्रदेश में बढ़ती आत्महत्या …..मानसिक रोगों से डरने की नहीं लड़ने की जरूरत, इन्होंने बताया कैसे …… पढें पूरी खबर …रोकथाम के लिए प्रदेश सरकार

प्रदेश में बढ़ती आत्महत्या …..मानसिक रोगों से डरने की नहीं लड़ने की जरूरत, इन्होंने बताया कैसे …… पढें पूरी खबर …रोकथाम के लिए प्रदेश सरकार

मानसिक रोगों से डरने कि नही लडने कि ज़रुरत- डॉ. सिंह


रायपुर मुुनादी।

विश्व आत्महत्या रोकथाम दिवस 10 सितंबर के उपलक्ष में आज जेआर दानी स्कूल में आत्महत्या रोकथाम दिवस मनाया गया जिसमेंस्पर्श क्लिनिक मनोरोग विभाग जिला चिकित्सालय रायपुर ने मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी जिला रायपुर के निर्देशन में छात्र छात्राओं के लियें जनजागरुकता के कार्यक्रम का आयोजन किया ।इसमें मुख्य अतिथि के रूप मेंडॉ. महेंद्र सिंह उप संचालक, संचालनालय स्वास्थ्य सेवाएं राष्ट्रीय मानसिक स्वास्थ्य कार्यक्रम छत्तीसगढ उपस्थित रहे|


डॉ. महेंद्र सिंह ने कहा मानसिक रोगों से डरने की नही बल्कि लडने की ज़रुरत है।देश में राष्ट्रीय मानसिक स्वास्थ्य कार्यक्रम 1982 में चालू किया गया इसके बाद इसका विकेंद्रीकरण करते हुए 1996 में जिला मानसिक स्वास्थ्य कार्यक्रम शुरू किया गया जो निमहांस(नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ मेंटल हेल्थ एंड न्यूरोसाइंस ) के साथ समुदाय सहयोग पर आधारित था।छत्तीसगढ़ में प्रथम चरण में धमतरी जिले को शामिल किया गया था,द्वितीय चरण में 2015 में 7 जिले जुड़े गए थे और 2017 में छत्तीसगढ़ के समस्त जिलों में जिला मानसिक स्वास्थ्य कार्यक्रम को लागू कर दिया गया।

कार्यक्रम में मनोवैज्ञानिक ममता गिरी गोस्वामी ने आत्महत्या के कारण और उसके दुष्प्रभाव के संबंध में विस्तृत जानकारी देते हुए कहा आत्महत्या एक मानसिक समस्या है जिसे आपसी संवाद या आपसी बातचीत के माध्यम से हल किया जा सकता है । आत्महत्या को भयावाह ना बनाकर मानसिक समस्या से ग्रसित व्यक्ति को बाहर निकालना ही हम सबकी एक बड़ी जिम्मेदारी है ।
डॉ. डीएस परिहार, सहायक चिकित्सा अधिकारी स्पर्श क्लीनिक जिला चिकित्सालय रायपुर ने बताया आत्महत्या के दुष्प्रभाव एवं जीवन कुशलता की विशेषता और अच्छे कार्य के लिए क्या उपयोग करें और कैसे करें, मन को स्वस्थ कैसे रखें ,आत्म बल संबंध में जानकारी के साथ ही आत्महत्या के रोकथाम हेतु विद्यालय के कन्याओं ने भी गेटकीपर के रूप में कार्य करने हेतु अपनी सहमति प्रस्तुत की ।


डॉ संजीव मेश्राम मनोचिकित्सा अधिकारी ने हैबताया इस सप्ताह भर जिले सभी विकासखंडों के विभिन्न स्कूलों में इस तरह के कार्यक्रम कर आत्महत्या के रोकथाम हेतु गेटकीपर के रूप में छात्र छात्राओं को परामर्श दिए जाएंगे।


कार्यक्रम को सफल बनाने में विद्यालय की शिक्षिका एवं विद्यार्थीयों का सहयोग महत्त्वपूर्ण रहा ।श्री विजय खांडेकर प्राचार्य जे आर दानी कन्या उच्चतर माध्यमिक विद्यालय कालीबाड़ी , राहुल जी राज्य कार्यक्रम सहायक , राकेश यादव कार्यक्रम में उपस्थित थे।

munaadi ad munaadi ad

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *