Wednesday, May 22, 2019
Home > Top News > 5 दिन के बेटे ने माँ को दे दी नयी जिंदगी….ये है पूरी कहानी

5 दिन के बेटे ने माँ को दे दी नयी जिंदगी….ये है पूरी कहानी

….
कांकेर जिले की पूलिस के सामने कई नक्सली गतिविधियों और पूलिस नक्सली मुठभेड़ में शामिल एक लाख की ईनामी नक्सली ने आत्मसमर्पण कर दिया है।बताया जा रहा है कि उक्त महिला नक्सली अपने एक साथी से विवाह की थी और विवाह के बाद जब वह गर्भवती हुई तो नक्सलियों ने उसे छोड़ दिया ।कुछ दिन पहले महिला नक्सली सुनीता उर्फ हूँगी कट्टम एक माह से कांकेर जिले के आलपरस गाँव के आस पास के जंगल मे रही थी।बिगत दिनों जंगल मे ही उसने एक बेटे को जन्म दिया। कल जब इस गाँव मे पूलिस की टीम गस्त के लिए पहुंची और जब पूलिस को सुनीता के बारे में जानकारी मिली तो पूलिस टीम सीधे सुनीता के ठिकाने पर पहुंची ।सुनीता अपने 5 दिन के बेटे के साथ थी।पूलिस ने जब सुनीता को इस हाल में देखा तो सबसे पहले पुलिस ने मानवता का परिचय देते हुए उसे और उसके 5 दिन के बेटे को कांकेर जिला अस्पताल में भर्ती कराया।डॉक्टरों के मुताबिक शिशु कमजोर है लिहाजा ईलाज अभी भी जारी रहेगा।
महिला नक्सली सुनीता आतंक की दुनिया और नक्सलवाद की खोखली विचारधारा से थक चुकी है और अब वह आम आदमी का जीवन जीना चाहती है लिहाजा आज उसने पूलिस अधीक्षक कांकेर के एल ध्रुव ,एडिशनल एसपी कीर्तन राठौर समेत जिले के अन्य पूलिस अधिकारियों के सामने विधिवत आत्मसमर्पण कर  दिया है ।पूलिस ने महिला नक्सली को 10 हजार की राशि भी सौंपी है और भविष्य में सरकार की अन्य योजनाओं में भी शामिल करने की पहल की जाएगी।

सुनीता 2014 में नक्सली संगठन में भर्ती हुई थी।बासागुड़ा एलओएस कमांडर शंकर ने इसे भर्ती किया था और 2014 से 2015 तक नक्सली संगठन एलओएस के सदस्य के रूप मे काम करती रही।2015 अप्रैल में उसे 15-20 साथियों के साथ दक्षिण बस्तर से उत्तर बस्तर भेजा गया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *