Monday, November 18, 2019
Home > Top News > पढिये ,जशपुर में उम्र के पेंच में फंसी एक मुहब्बत की अजीबो गरीब कहानी , नादान मुहब्बत का जमीनी सच

पढिये ,जशपुर में उम्र के पेंच में फंसी एक मुहब्बत की अजीबो गरीब कहानी , नादान मुहब्बत का जमीनी सच

Munaadi News

जशपुर मुनादी।

 

 

जशपुर जिले के फरसाबहार में प्रेम प्रसंग से जुड़ा अजीबो गरीब मामला सामने आया है। बचपन से प्रेम और प्रेम के बाद शादी के बीच उम्र का ऐसा पेंच आया कि मुहब्बत की पूरी कहानी ही उल्टी हो गयी।
मामला फरसाबहार थाने का है। यहां की पुलिस ने सहसपुर के संतोष गोसाई नाम के एक युवक को नाबालिग लड़की के साथ दुष्कर्म के मामले में जेल भेज दिया है यह केवल कहानी का इंट्रोडक्शन है बाकी पुरी कहानी यह है कि आरोपी सन्तोष को पीड़ित नाबालिग से बचपन से ही प्यार था। दोनो एक साथ पढ़ते खेलते कूदते कब एक दूसरे के करीब आ गए इन्हें पता ही नही चला । बीते मई महिने में दोनों की मुहब्बत परवान चढ़ी और दोनों ने गांव से दूर दूसरे शहर में अपना ठिकाना बना लिया और साथ रहने लगे । इधर लड़की के घरवालों को इस रिश्ते से शुरू से ही ऐतराज था और जब उनकी बेटी बगैर बताए घर की दहलीज छोड़ दी तो गुस्से से तमतमा उठे लेकिन बाद में धीरे धीरे उनका गुस्सा ठंडा हो गया लेकिन कुछ महीनो तक दूसरे शहर में दिन गुजारने के बाद जब दोनो वापस गांव आये तो घरवालों का गुस्सा फिर से उबाल मारने लगा और उन्होंने सीधे फरसाबहार थाना जाकर बीते 19 जुलाई को फरसाबहार थाने में संतोष गोसाई के खिलाफ रिपोर्ट लिखा दी और उनकी रिपोर्ट के आधार पर पुलिस ने आरोपी के वितमरुद्ध अपहरण और बलात्कार का मामला दर्ज करके संतोश को जेल भेज दिया ।इस मामले में सबसे खाश बात यह है कि कथित पीड़िता बालिग है और अभी भी संतोष के साथ ही रहना चाहती है। उसे संतोष के जेल जाने का बहुत दुख है लेकिन वह चाहकर भी संतोष को जेल जाने से इसलिए नही रोक सकती क्योंकि जब संतोष के साथ वह दूसरे शहर के लिए रवाना हुई थी तब उसकी उम्र 17 साल 11 महीने की थी यानी 18 वर्ष नही हुए थे जाहिर है वह नाबालिग थी और ऐसे प्रकरण में नाबालिग का कथन कोई मायने नही रखता परिजन के रिपोर्ट और कथन के हिसाब से पुलिस काम विवेचना उपरांत या बगैर विवेचना के भी अपराध पंजीबद्ध कर सकती है। इस मामले में फरसाबहार थाना पुलिस का भी यही कहना है । मामले के विवेचना अधिकारी सुनील दास ने बताया कि घटना के वक़्त चुकी पीड़िता नाबालिग थी इसलिए पीड़िता के पिता के कथन के आधार पर कार्यवाही की गई है।

munaadi ad

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *