Thursday, January 18, 2018
Home > Slider > जब पूर्व मंत्री ने गाया लोकगीत और घण्टे भर गीत पर झूमते रहे ग्रामीण

जब पूर्व मंत्री ने गाया लोकगीत और घण्टे भर गीत पर झूमते रहे ग्रामीण

जशपुर मुनादी ।।

एक समय मे बीजेपी के सबसे मजबूत स्तम्भ रहे छग के पूर्व आजाक मंत्री गणेश राम भगत इन दिनों आदिवासी धर्म और संस्कृति की रक्षा और विकास के लिए सघन अभियान में हैं । इसके लिए इन्होंने रात और दिन बराबर कर दिया है । बीती रात लुंड्रा के एक सामाजिक कार्यक्रम से वापसी के दौरान पूर्व मंत्री भगत अचानक बगीचा के मैनी पंचायत पहुच गए ।शाम करीब 7 बजे पहुचे पूर्व मंत्री के स्वागत में जहां पूरा गाँव उमड़ पड़ा वही ग्रामीणों के स्वागत से अभिभूत गणेशराम भगत ने खुद से उरांव लोक गीत गाना शुरू कर दिया और पूर्व मंत्री के लोकगीत पर ग्रामीणों ने मांदर ओर ढोल की जमकर थाप दी और ग्रामीण करीब 1 घण्टे तक पूर्व  मंत्री के गीत पर नाचते झूमते रहे ।इसके बाद पूर्व मंत्री ने ग्रामीणों की एक बैठक ली । बैठक में करीब 200 ग्रामीण मौजूद थे । ग्रामीणों को सम्बोधित करते हुए भगत ने कहा कि धर्मांतरण,गौ तस्करी और नस्लवाद जैसी ताकतों से लड़ने के लिए समाज के लोग जब तक सामने नही आएंगे तबतक इन ताकतों से निपटना मुश्किल है। हम आपको बता दें कि गणेश राम भगत बीते 2008 से लगातार धर्मांतरण,गौतस्करी,और नक्सलवाद के मुद्दे को लेकर जशपुर ओर सरगुजा में लगातार सभाएं ओर बैठक ले रहे हैं ।2013 के बिधानसभा चुनाव में पार्टी से बगावत करने के कारण भाजपा ने इन्हें बाहर का रास्ता दिखा दिया था ।उसके बाद से इन्होंने अपने अभियान को ओर तेज कर दिया है।

आखिरी दम तक लड़ूंगा

गणेश राम भगत ने कहा कि हमारे लिए राजनीति से ज्यादा महत्वपूर्ण समाज मे जहर की तरह फैल रहे धर्मांररण ,नस्लवाद ओर गौतस्करी जैसे मुद्दे हैं जिनके लिए उनकी लड़ाई आखिरी दम तक रहेगी ।उन्होंने कहा कि ये तीनो मुद्दे समाज को कमजोर और असहाय करने वाले हैं जबतक इन्हें समाज से पूरी तरह अलग नही होता बेहतर समाज की कल्पना बेमानी है ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *