Sunday, May 20, 2018
Home > Slider > हो गयी बर्खास्तगी फिर भी जारी है अध्यापन कार्य, पढ़ने की ऐसी लगन की ……… जानिए कौन है ये शख्स

हो गयी बर्खास्तगी फिर भी जारी है अध्यापन कार्य, पढ़ने की ऐसी लगन की ……… जानिए कौन है ये शख्स

रायगढ़ मुनादी

वाकया है रायगढ़ जिले के खरसिया विख का जहा के कन्या आश्रम मा शा में पदस्थ शिक्षक प गिरजा शंकर शुक्ला जो कि शिक्षाकर्मी संघ जिला रायगढ़ के जिलाध्यक्ष है एवं संघ के प्रमुख रणनीतिकार भी हैं। कहा जाता है जब भी कोई प्रान्त स्तर का आंदोलन या कार्यक्रम होता हैं इनकी प्रान्त में प्रमुख भूमिका रहती हैं एवं प्रांताध्यक्ष संजय शर्मा के नजदीकी व विश्वस्त पदाधिकारी माने जाते हैं। अभी सपन्न आंदोलन में संजय शर्मा जी के साथ रायपुर में अंडरग्राउंड थे,यह भी कहा जाता है कि इनके ही मोबाइल से संजय शर्मा जी का प्रतिदिन वीडियो ,आडियो ,प्रेस नोट ,आंदोलन की रणनीति , रायपुर में अचानक एक जगह एकत्र होने का मैसेज जारी होता था।शासन प्रशासन से चर्चा ,यहाँ तक संजय शर्मा जी से सम्पर्क या किससे कब कितने समय बात करेगे सभी इनके मोबाइल से ही होता था।
आंदोलन के दौरान 41 बड़े पदाधिकारियो की बर्खास्तगी का निर्देश राज्य शासन से जारी किया गया था उसमे श्री गिरजा शंकर शुक्ला जी का भी नाम शामिल था। जिसे जिला पंचायत रायगढ़ द्वारा 3 दिसम्बर को पहले बड़े नाटकीय ढंग से नोटिस दिया गया। खरसिया बीआरसी की अगुवाई में टीम इनके गृह ग्राम निवास में नोटिस देने गई तो घरवालो ने लेने से मना कर दिया,शुक्ला जी से सम्पर्क साधने पर उन्होंने स्वम घरवालो को नोटिस लेकर पावती देने को कहा। तब तक सीईओ जनपद खरसिया की अगुवाई में एक टीम और पहुच गई। उन्होंने पंचनामा कर चस्पा करने की बात कही। पंचनामा में हस्ताक्षर के लिये कोशिस के बावजूद गांव का कोई तैयार नही हुआ तो पुनः शुक्ला जी से सम्पर्क साधा गया तो उन्होंने गांववालों को स्वम हस्ताक्षर करने को कहा तब जाकर पंचनामा सफल हो पाया। 4 दिसम्बर को हड़ताल में रहने के कारण श्री गिरजा शंकर शुक्ला को बर्खास्त किया गया। 4 दिसम्बर रात को हड़ताल समाप्त हुआ।5 दिसम्बर से शिक्षाकर्मी शाला पहुचे तब से आज तक बर्खास्त रहने के बावजूद शुक्ला जी नियमित रूप से शाला में उपस्थित होकर अध्यापन कार्य करा रहे हैं।उनका कहना है हमने हक के लिये आंदोलन किया अब छात्र हित मे अध्यापन कराते रहेंगे। बर्खास्तगी की बहाली एक प्रक्रिया हैं जो आगे चलकर हो जाएगा लेकिन उसको आधार मानकर पढ़ाई से दूर रहना उचित नही हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *