Friday, September 21, 2018
Home > Slider > नीरव मोदी का पैसा भी मुझसे ही वसुलोगे क्या ? गुस्साए किसान ने जब बैंक अधिकारिओं से पूछा, पढ़िए लोन की दिलचस्प कहानी

नीरव मोदी का पैसा भी मुझसे ही वसुलोगे क्या ? गुस्साए किसान ने जब बैंक अधिकारिओं से पूछा, पढ़िए लोन की दिलचस्प कहानी

 

रायगढ़ मुनादी ।

 

 

नीरव मोदी की कहानी जबकि आज सुर्ख़ियों में है हजारों करोड़ के लोन लेकर बड़े लोगों द्वारा देश छोड़ने की कई घटनाओं से लोग अपना ध्यान हटा भी नहीं पाए हैं उसी समय एक किसान द्वारा पैसा चुकता करने के बाद भी एक बैंक द्वारा लीगल नोटिस भेजने की घटना सामने आई है.
एक किसान का ऋण प्रकरण वर्ष 2014 में न्यायालय के समक्ष निपटारा हो गया था, उसी किसान को फिर से बैंक ने लिगल नोटिस भेजा है। ऐसे में किसान बार बार के नोटिस से हलाकान हो गया है। उसने बैंक प्रबधन को सीधा कहा साहेब मोदी कर पैसा मोर ले वसुलीह का ?
मिली जानकारी के अनुसार रायगढ़ तहसील अंतर्गत ग्राम सराईपाली के गोरखनाथ राठिया ने स्टेट बैंक आफ इंडिया के इतवारी बाजार शाखा से लोन लिया था। इस लोन की कुछ राशि 14 हजार 836 रुपये बैंक को चुकाना बकाया था। ऐसे में इस राशि को लेने के लिए बैंक ने वर्ष 2014 दिसंबर माह में लिगल नोटिस जारी कर किसान को तलब किया था। जहां बैंक द्वारा दी जा रही विशेष छुट अंतर्गत समझौते की कार्रवाई की गई और न्यायालय में ग्रामीण ने समस्त राशि जमा कर दी। इसके बाद किसान का किसी तरह का बकाया नहीं रहा। लेकिन तीन साल बाद बैंक प्रबंधन ने फिर उसी ऋण प्रकरण में गोरखनाथ राठिया के विरुद्ध लीगल नोटिस जारी कर दिया है। बंैक के ऋण की अदायगी करने के बाद भी लगातार जारी किए जा रहे लीगल नोटिस से किसान हलाकान है। उसे बार बार न्यायालय आना पड़ रहा है। एक तरह से बैंक प्रबंधन ने एक बार किसान को कर्ज देकर हमेशा के लिए ऋणी बना दिया है।
बैंक के कामकाज के तरीके पर उठ रहा सवाल
जिले के बैंको में लोन लेकर डकारने वाले बड़े बकायादारों पर बैंक प्रबंधन कोई कार्रवाई नहीं कर रही है जबकि सराईपाली के एक छोटे से किसान को बार बार नोटिस जारी कर उसे हलाकान करने का काम कर रही है। शहर के भीरत ही कई ऐसे रसूखदार हैं जिन्होने बैंक से कर्ज लेकर राशि वापस नहीं की है। यह राशि करोड़ो में है, हाल ही में पीएनबी घोटाले को लेकर देश भर में चर्चा है वहीं स्टेट बैंक की इतवारी बाजार शाखा की इस व्यवस्था ने अन्य बैंक के काम काज पर भी उंगली उठ रही है .

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *