Monday, June 25, 2018
Home > Slider > इस साल साठ प्रतिशत नक्सलीओं का हुआ खात्मा, पुलिस का दवा, नक्सलीओं को लेकर किये गए कई दावे

इस साल साठ प्रतिशत नक्सलीओं का हुआ खात्मा, पुलिस का दवा, नक्सलीओं को लेकर किये गए कई दावे

रायपुर मुनादी

छत्तीसगढ़ पुलिस के नक्सल ऑपरेशन हेड डीएम अवस्थी ने दवा किया की राज्य से ६० प्रतिशत तक के नक्सलीओं को काम दिया गया. उन्होंने प्रेस को पुलिस की उपलब्धिओं को बताते हुए यह भी कहा कि जवानों में तनाव है उससे निपटने कोशिश कि जा रही है लेकिन मोचे पर जो तालमेल है उससे नक्सली निपट रहे हैं .

साल 2017 नक्सल मामलों के लिए पुलिस के लिए सफल रहा है। सालभर का ब्यौरा देते हुए नक्सल डीजी डीएम अवस्थी ने बताया कि साल 2017 में 76 माओवादियों के शव बरामद हुए है। वही नक्सलियों के मारे जाने की संख्या तकरीबन 100 से ऊपर है। मारे जाने वाले में 51 नक्सली इनामी थे। जिनमें 25 लोग मिलिशिया कैडर के थे। अवस्थी ने कहा कि साल 2017 में 1017 नक्सली गिरफ्तार हुए है , जिनमे 79 ऐसे नक्सली है जिन पर 1 करोड़ 41 लाख का इनाम घोषित था।

बस्तर में नक्सल मोर्चे पर तैनात फोर्स और पुलिसिया रणनीति में बेहतर तालमेल का ही नतीजा है कि बड़ी संख्या में नक्सलीयों को न्यूट्रल किया गया है।
 डीजी नक्सल ऑपरेशन डीएम अवस्थी ने बताया कि ऑपरेशन प्रहार में नक्सलियों की मांद माने जाने वाले सुकमा के भीतर सफलता मिली जिसे हमने किस्टाराम,गोलापल्ली जैसे इलाकों तक पहुचाई है।
बस्तर में जवानों की बढ़ती आत्महत्या पर अवस्थी ने कहा कि नक्सल मोर्चे पर तैनात जवानों को तनाव मुक्त करने हम योग, म्युज़िक समेत अन्य माध्यमों का भी उपयोग करेंगे।

पत्रकारों को संबोधित करते हुए गृहसचिव बीवीआर सुब्रमण्यम ने कहा कि नक्सलियों की मांद तक घुसकर नक्सलियों का ख़ात्मा किया जा रहा है जिसके परिणामस्वरूप 60 फीसदी नक्सलियों का सफाया किया गया। वर्तमान में नक्सलियों की सीमाएं तय हो गई है। न्यायलियन प्रक्रिया से लेकर ज़मीनी स्तर तक नक्सलियों की हार हो रही है ।

केंद्र सरकार के 48 हज़ार ओर राज्य के 25 हज़ार लोग काम कर रहे है। तकरीबन 80 हज़ार लोग नक्सल मोर्चे पर काम कर रहे है। छत्तीसगढ़ में नक्सल समस्यों को लेकर 16 जिले है, जिनमें घोर प्रभावित जिलों में 8 है । जिनमे 7 जिलों और  एक राजनांदगांव को रखा गया है।
इसी दौरान, डीजीपी ए. एन. उपाध्याय ने बताया कि नक्सल के खिलाफ चल रहे अभियान एक सतत प्रक्रिया है। इसमें किसी अफसर, सरकार पर किसी की कार्यक्षमता पर सवाल उठना लाज़मी नही होगा। समय और परिस्तिथियों के साथ हमने हर संभव एफर्ट लगाया है और सफ़लता मिल रही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *