Friday, December 14, 2018
Home > Slider > सरकार का विरोध जारी रखने निर्देश, शिक्षाकर्मिओं ने कहा सख्ती का जवाब सख्ती से

सरकार का विरोध जारी रखने निर्देश, शिक्षाकर्मिओं ने कहा सख्ती का जवाब सख्ती से

 

आंदोलन के सच की मुनादी

 

शिक्षाकर्मियों का आंदोलन धीरे धीरे उग्र रूप लेता जा रहा है ।अब ये किसी भी कीमत पर बिना मांग पूरा हुआ आंदोलन खत्म करने के मूड में नही दिख रहे है ।अभी अभी प्रांतीय संगठन की ओर से निर्देश जारी हुए हैं कि जो भी शिक्षाकर्मी प्रदेश के किसी भी कोने में हों प्रदर्शन जारी रखे । संगठन के शिक्षकर्मियों को सोशल मीडिया के जरिये सूचित किया जा रहा है कि जो भी शिक्षकर्मी रायपुर नही पहुच पाए हैं या जिन्हें रैली में शामिल होने से रोक दिया गया है वे किसी जगह विशेष पर जाने के बजाय जहां हैं वही प्रदर्शन जारी रखें। मोर्चा की ओर से जारी निर्देश में यह भी बताया गया है कि ब्लॉक मुख्यालयों में धरना प्रदर्शन पूर्ववत जारी रखे जाएंगे इस बीच अगर पुलिस उन्हें धरनास्थल से गिरफ्तार करती है तो थाने में ही धरना शुरू कर दिया जाएगा।
गौरतलब है कि आज सुबह से ही शिक्षाकर्मी और सरकार के बीच रस्सा कस्सी का खेल चल रहा है ।सरकार द्वारा संविलियन की मांग को सिरे से खारिज किये जाने के बाद सरकार और शिक्षकर्मी आमने सामने हो गए हैं ।सरकार संविलियन को तैयार नही है और शिक्षकर्मी इस बार इस मांग को लेकर गदर की राह पर निकल पड़े हैं । राजधानी में आज की रैली की घोषणा के बाद से ही पूरे प्रदेश की पुलिस संगठन के नेताओं के धर पकड़ में लग गई थी। रातों रात की शिक्षकर्मी ओर इनके नेता गिरफ्तार कर लिए गए ।ऐसा लग रहा था मानो आंदोलनकारियों की तरह सरकार भी अब अपने पर आ गयी है लेकिन सरकार की तमाम घेराबन्दियों को तोड़ते हुए हजारो शिक्षकर्मी आखिरकार राजधानी पहुच ही गए ।
बहरहाल,शिक्षाकर्मियीं का यह आंदोलन 1857 की क्रांति के गदर की याद दिला रहा है और इंदिरा गांधी शासन के इमरजेंसी काल की भी ……

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *