Friday, November 16, 2018
Home > Slider > फेडरेशन के पदाधिकारियों को अब प्रताड़ित किया जा रहा है,फेडरेशन ने कहा- प्राथमिक शालाओं में तालाबंदी कर देंगे..पढिये क्या है मामला

फेडरेशन के पदाधिकारियों को अब प्रताड़ित किया जा रहा है,फेडरेशन ने कहा- प्राथमिक शालाओं में तालाबंदी कर देंगे..पढिये क्या है मामला

“बलरामपुर जिला शिक्षा विभाग पर फेडरेशन के पदाधिकारियों को प्रताड़ित करने का आरोप” ….. “फ़ेडरेशन” के “प्रांतीय संयोजक मण्डल″ ने बलरामपुर डीईओ को चेताया……. कहा फ़ेडरेशन के पदाधिकारियों को अनावश्यक रूप से प्रताड़ित करना बन्द करें….. ……. … अन्यथा बलरामपुर जिले के पूरे प्राथमिक शालाओ में कर दी जाएगी तालेबंदी”

 

 

 

“रामानुजगंज-बलरामपुर मुनादी।।

 

 

 

“छत्तीसगढ़ सहायक शिक्षक फ़ेडरेशन” ने बलरामपुर जिला शिक्षा विभाग पर जिले के अंतर्गत फेडरेशन के पदाधिकारियों एवं सदस्यों को बेवजय प्रताड़ित करने का बड़ा व गम्भीर आरोप लगाते हुए जिला शिक्षा विभाग को चेतावनी दी है कि यदि जिला शिक्षा विभाग का यही रवैय्या जारी रहा और वे फ़ेडरेशन के पदाधिकारियों को प्रताड़ित करना बंद नहीं किये तो जिला कलेक्टर एवं जिला पुलिस अधीक्षक को एक सप्ताह पूर्व सूचना देकर जिला बलरामपुर शिक्षा कार्यालय का घेराव किया जाएगा एवं बलराम जिले के समस्त प्राथमिक शालाओं में अनिश्चितकालीन तालेबंदी कर दी जाएगी।
“फ़ेडरेशन” के प्रांतीय संयोजक जाकेश साहू, मनीष मिश्रा, इदरीश खान, शिव सारथी, अजय गुप्ता एवं रंजित बनर्जी ने संयुक्त बयान जारी करते हुए बताया कि विगत दिनों डीईओ बलरामपुर द्वारा शंकरगढ़ विकासखण्ड की सहायक शिक्षक (एलबी) श्रीमती संतोषी, प्राथमिक शाला दोहना को राष्ट्रीय कार्यक्रम रूबेला टीकाकरण का दुष्प्रचार करने का आरोप लगाते तत्काल प्रभाव से निलंबित किया गया है। इसके पूर्व बलरामपुर डीईओ द्वारा, किसी अन्य शिक्षक संघ के इशारे पर, सम्बन्धित सहायक शिक्षक (एलबी) के शैक्षिक समन्वयक से रिपोर्ट मंगवाकर उक्त रिपोर्ट के आधार पर बीईओ शंकरगढ़ द्वारा प्रतिवेदन लेकर डीईओ ने सम्बन्धित शिक्षिका को निलंबित किया है।
“क्या है पूरा मामला……. ?????
बलरामपुर जिला के अंतर्गत शंकरगढ़ विकासखण्ड में रूबेला टीकाकरण के तहत स्कूली बच्चों को टीकाकरण कराया गया। इसी कड़ी में ब्लाक के प्राथमिक शाला दोहना में भी बच्चों को टीकाकरण कराया गया, जंहा पहले दिन मात्र सात बच्चों ने ही टिके लगवाएं बाकी बच्चे रोते बिलखते रहे क्योकि टिके के तहत हाथ के भुजाओ में इंजेक्शन लगाना था। तब सम्बन्धित प्रभारी शिक्षक ने दूसरे दिन बच्चों को मना-बुझाकर टिका लगवाया।
इसी मामले ने तूल पकड़ा और बात बीईओ व डीईओ तक पहुंची तथा मामले पर राजनीति होने लगा। अन्य शिक्षक संघो ने मौके का फायदा उठाते हुए फ़ेडरेशन के पदाधिकारियों व सदस्यों पर कार्यवाही कराने के अभियान के तहत डीईओ पर उक्त शिक्षक के ऊपर कार्यवाही करने का दबाव बनाया जिस पर डीईओ ने सम्बन्धित सहायक शिक्षक (एलबी) को तत्काल निलम्बित करने का आदेश जारी कर दिया।

 

“पिछले दिनों हुआ था….. … …. फ़ेडरेशन के सदस्यों के वेतन रोकने का आदेश”……….

 

 

“फ़ेडरेशन” के प्रांतीय संयोजक जाकेश साहू, अश्वनी कुर्रे, छोटेलाल साहू, संकीर्तन नंद, बसंत कौशिक, सीडी भट्ट, हुलेश चन्द्राकर, शेषनाथ पांडेय, भारती साहू, सुखनंदन यादव, दिलीप पटेल, किलेश्वरी सांडिल्य, सुखनंदन यादव एवं बलराम जिला अध्यक्ष चन्द्रदेव राम व ब्लाक अध्यक्ष बैजनाथ यादव ने संयुक्त रूप से बयान जारी कर, बताया कि विगत दिनों, बलरामपुर जिले में सक्रिय, एक तथाकथित शिक्षाकर्मी संघ के जिला अध्यक्ष के इशारे व बलरामपुर जिला शिक्षा अधिकारी के मौखिक आदेश पर ही विकासखण्ड बलरामपुर के बीईओ द्वारा ब्लाक में पदस्थ “फ़ेडरेशन” के पैंतालीस सदस्यों का एक माह का वेतन जानबूझकर रोक दिया गया था। जिसे “फ़ेडरेशन प्रांतीय बॉडी” के भारी विरोध के बाद वेतन रोकने सम्बन्धी उक्त आदेश को तत्काल निरस्त किया गया था।
“छत्तीसगढ़ सहायक शिक्षक फ़ेडरेशन” ने जिला शिक्षा अधिकारी बलरामपुर से, सम्बन्धित सहायक शिक्षक (एलबी) श्रीमती संतोषी, प्राथमिक शाला दोहना पर की गई निलम्बन की कार्यवाही को मूलतः वापस लेने की मांग करते हुए जारी निलम्बन आदेश को तत्काल निरस्त करने की मांग की है। तथा कहा है कि यदि एक सप्ताह के भीतर उक्त निलम्बन आदेश मूलतः निरस्त नहीं हुआ तो बलरामपुर जिला शिक्षा कार्यालय का अनिश्चित कालीन घेराव कर पूरे बलराम जिले के प्राथमिक शालाओं में तालेबंदी कर दी जाएगी। जिसकी सम्पूर्ण जवाबदारी डीईओ बलरामपुर व बलरामपुर जिला शिक्षा विभाग की होगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *