Thursday, January 18, 2018
Home > Slider > बीजेपी जनपद सदस्य को सोशल मीडिया में सच बोलने की मिली सजा …प्रशासन कर रहा इस बीडीसी को टारगेट

बीजेपी जनपद सदस्य को सोशल मीडिया में सच बोलने की मिली सजा …प्रशासन कर रहा इस बीडीसी को टारगेट

 

जशपुर मुनादी

 

बुधवार को धान खरीदी केंद्र में धान बेचने को लेकर जनप्रतिनिधियों ओर प्रशासन के बीच जमकर बहसा बहसी हुआ। बताया जा रहा है बुधवार करीब ढाई बजे कुनकुरी एसडीएम धनी राम रात्रे पूरे लाव लश्कर के साथ आये और यह पुछना शुरू कर दिया  कि केरसई से धान बेचने  कौन आया है  ? एसडीएम के इस का जवाब देते  धान खरीदी केंद्र के कर्मचारी ने केरसई से धान बेचने आये फरसाबहार जनपद सदस्य गोपाल कश्यप की ओर इशारा किया। इतने में धान तौलवा रहे बीडीसी के पास एसडीएम पहुच गए और इनके धान को देखकर कहने लगे धान अमानक है इसे सीज कर दो।इतना ही नही उन्होंने जनपद सदस्य को “कोचिया” तक कह दिया। एसडीएम के इस तेवर का जवाब देने सेवा सहकारी समिति के अध्यक्ष दरियार साय को सामने आना पड़ा ।साय ने कहा-धान सही है , इसे लिया जाना चाहिए ।इस पर सीडीएम ने समिति के अध्यक्ष के विरुद्ध कार्यवाही करने की बात कह दी। काफी देर तक सवाल जवाब चलने के बाद एसडीएम साहब तो चले गए  लेकिन यह मामला सियासी हलकों में जोर पकड़ने लगा । बीजेपी समर्थित बीडीसी के धान को रिजेक्ट कर कार्यवाही करने की खबर पूरे पार्टी के अंदर जंगल की आग की तरह फैल गयी ।और यह कहा जाने लगा कि प्रशासन जानबूझकर भाजपा के नेताओं को टारगेट करके कार्यवाही करने में जुटा है । खुद जनपद सदस्य गोपाल का कहना है कि बीते दिनों एसडीएम कार्यालय में पदस्थ एक बाबू का उन्होंने स्टिंग वीडियो वायरल किया था इसलिये एसडीएम द्वारा उन्हें टारगेट करके कार्यवाही की गयी है । अन्यथा केरसई से कौन धान लाया है यह क्यों बोला गया ?

“पूर्वाग्रह से प्रेरित है कार्यवाही “

  यह खबर पूरे जिले के आला भाजपा नेताओ के पास चली गयी और गुरुवार सुबह सुबह सुबह ही धान खरीदी केंद्र में स्थानीय भाजपा नेताओं का जमावड़ा  लग गया और सभी इस कार्यवाही के लिए एसडीएम को कोसने लगे । जनपद अध्यक्ष फरसाबहार वेदप्रकाश भगत ने मुनादी डॉट कॉम को बताया कि हमारे जनपद सदस्य गोपाल कश्यप ने कुछ माह पहले फरसाबहार तहसील कार्यालय में पदस्थ एक बाबू का रिश्वत लेते हुए वीडियो को सोशल मीडिया में बायरल किया था हो सकता है यह कार्यवाही इसी की दुष्परिनीति हो ।

“किसानों को परेशान किया जा रहा है “

इस पूरे मामले में समिति के अध्यक्ष दरियार साय का कहना है कि प्रशासनिक अधिकारियों के द्वारा धान बेचने वाले किसानों को परेशान किया जा रहा है । सही और किसानों के धान को बिचौलिया का धान बताकर उनके सही धान में खामियां निकाली जा रही हैं । उन्होंने मुनादी को बताया कि अगर इसी तरह किसानों को परेशान किया जाता रहा तो किसान धान बेचने क्यों आएगा ?

हम आपको बता दें कि ये वही गोपाल कश्यप जनपद सदस्य हैं जिन्होंने फेसबुक में प्रशासन के खिलाफ कई स्टेटस लिखे थे और फरसाबहार तहसील कार्यालय में पदस्थ एक बाबू के द्वारा रिश्वत लेते वीडियो को सोशल मीडिया में बायरल किया था ।यह मामला सोशल मीडिया में बहुत चला और इसको लेकर जनपद सदस्य की पार्टी ने खिंचाई भी की थी।

One thought on “बीजेपी जनपद सदस्य को सोशल मीडिया में सच बोलने की मिली सजा …प्रशासन कर रहा इस बीडीसी को टारगेट

  1. इस मामले में पार्टी द्वारा मुझे खिंचाई नहीं किया गया था। किंतु आपकी जानकारी में ऐसा कुछ है तो यह काफी दुर्भाग्यजनक है। प्रधानमंत्री जी जीरो torlens मुहिम की धज्जी उड़ाई जा रही है जिले में।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *