Wednesday, September 19, 2018
Home > Slider > किसी ने नहीं कहा कि CD फ़र्ज़ी है, खुद चिल्लाये और मीडिया में हुआ शोर

किसी ने नहीं कहा कि CD फ़र्ज़ी है, खुद चिल्लाये और मीडिया में हुआ शोर

रायपुर मुनादी।।

हाई प्रोफाइल सेक्स सीडी स्कैंडल के बारे में प्रचारित खबर की अब हवा निकल रही है, जिस CD को कल तक फ़र्ज़ी बताया जा रहा था, उसे किसने फ़र्ज़ी ठहराया इसका जवाब किसी के पास नहीं। साइबर एक्सपर्ट की व्यक्तिगत राय और भाजपा कार्यकर्ताओं की शोर में सच को दबा दिया गया।
जब मुनाद न्यूज़ ने इस संबंध में साइबर क्राइम अधिकारियों से बात करने की कोशिश की तो उन्होंने कुछ भी बताने से मन कर दिया। जब से इस CD को फ़र्ज़ी करार दिए जाने की खबर मीडिया में आई है तभी से चर्चा का यह दौर शुरू हो गया कि आखिर CD के झूठे होने की बात का आधार क्या है। इस मामले में munaadi.com ने जब पड़ताल की तो पता चला कि CD के फ़र्ज़ी होने का दावा न तो किसी पुलिस अधिकारी ने की और न ही आधिकारिक रुप से इसकी पुष्टि की गई। दरअसल इस तरह की पुष्टि पुलिस कर ही नहीं सकती क्योंकि इसके लिए एक निश्चित प्रक्रिया है

कैसे पता चलता है वीडियो असली है या नकली

विशेषज्ञों के अनुसार किसी भी वीडियो रिकार्डिंग के अंदर उसका डेटा होता है, जैसे उसका समय, कई बार जगह भी बताई जाती है। विशेषज्ञ वीडियो के अंदर स्थित फुट प्रिंट से यह पता लगाने की कोशिश करते है कि रेकॉर्डिंग का जो समय है उसकी तारतम्यता कही टूटी तो नहीं है, इससे प्राथमिक तौर पर यह पता चलता है कि वीडियो में छेड़छाड़ हुई है। सरकारी तौर पर जब तक लैब में, जो चंडीगढ़, हैदराबाद, कोलकाता आदि जगहों पर है, इसकी जांच न हो तबतक अदालत में ग्राह्य नहीं मानी जाती। इसके आधार पर पुलिस अभी यह नहीं कह सकती कि CD असली है या नकली, सिर्फ अनुमान लगा सकती है।

समझें अंक गणित

दावा किया जा रहा है कि पुलिस ने इसके लिए 150 साइट की खाक छानी, 6000 वीडियो फुटेज खंगाले, 200 वीडियो शॉर्टलिस्ट किया तब उसे इसका पता चला। हालांकि पुलिस का यह आधिकारिक बयान नहीं है। अब गणित समझिए 150 साइट पर यदि 2-2 मिनेट भी बिताया गया तो उसके 300 मिनिट होते हैं। 6000 वीडियो पर यदि 30-30 सेकंड भी खर्च की गई हो तो 3000 मिनिट होते हैं। 200 वीडियो शॉर्टलिस्ट करने में काम से कम100 मिनेट। अब सब को जोड़िये तो 3700 मिनेट होता है यानी 62 घंटे। इसमें कुटनी भी जल्दी की जाय तो मामला 32 घंटे से कम का नहीं है लेकिन वाह रे एक्सपर्ट इसे कुछ ही घंटे में बता दिया कि यह CD नकली है।

विपक्ष का तंज

क्लीन पर विपक्ष फिर से सरकार पर आक्रामक हो गया है। विपक्षी नेताओं ने यहां तक कह दिया कि आम लोगो की शिकायत पर सरकार और पुलिस इतनी ततपरता कभी नहीं दिखाती। कांग्रेस के नेता प्रतिपक्ष TS सिंहदेव अब सरकार पर हमलावर हो गए हैं। उनका कहना है कि सरकार मनमानी कर रही है और इस मामले में शुरू से ही गलत कदम उठा रही है। उन्होंने कहा कि यदि मंत्री को पत्रकार विनोद वर्मा ने धमकी दी थी तो उन्होंने इसकी रिपोर्ट क्यों नहीं लिखाई ? पुलिस ने विनोद वर्मा से सिर्फ एक पेन ड्राइव ही बरामद की है। उन्होंने यह भी कहा कि वे पत्रकार विनोद वर्मा को व्यक्तिगत तौर पर जानते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *