Sunday, July 15, 2018
Home > Slider > किस कांग्रेसी नेता ने मोदी के उपवास कार्यक्रम को बताया उपहास का पात्र कहाँ हो रही और किस किस मामले में bjp की जमकर हो रही किरकिरी ,,,,,,,

किस कांग्रेसी नेता ने मोदी के उपवास कार्यक्रम को बताया उपहास का पात्र कहाँ हो रही और किस किस मामले में bjp की जमकर हो रही किरकिरी ,,,,,,,

रायगढ़ मुनादी।

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

उन्नाव व कठुआ बलात्कार कांड को काउंटर करने उपवास का सहारा लिया जा रहा है। इसे जिला कांग्रेस कमेटी के ग्रामीण अध्यक्ष अरुण मालाकार ने उपवास को एक उपहास करार दिया है। बलात्कार कांड के दाग को मिटाने के लिए महज एक नोटंकी करार देते हुए कहा कि इससे मोदी का देश भर में उपहास हो रहा है।

 

डकैती, बलात्कार, काला धन वापसी, किसानों की मौत आदि मुद्दों पर से आम जनता का ध्यान भटकाने के लिए कांग्रेस के उपवास कार्यक्रम का नक़ल कर स्वम् का उपहास उड़ाने जैसा करार दिया है।

भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के अध्यक्ष राहुल गांधी जी ने देशभर में हिंसा को लेकर आम जनता में शांति स्थापित करने की सोच लेकर जैसे ही उपवास की उनकी नकल कर देश के प्रधान ने महज संसद न चलने जैसे अल्प कारणों का बहाना कर उपवास की नौटंकी चालू कर दी।जिला कांग्रेस कमेटी ने मोदी के उपवास को रेपकांड का काउंटर बताते हुए रेपकांड से आम जनता का ध्यान हटाने की नौटंकी बताया।देश में उन्नाव और कठुआ रेप कांड जहां मासूम लड़कियों के साथ बलात्कार हुए उन पर अपनी जुबान ना खोलते हुए उस मुद्दे को भटकाने की नियत से राजनीतिक प्लान कर मोदी का उपवास करना बलात्कार कांड को काउंटर करने जैसा है और ऐसा सिर्फ अभी नहीं हो रहा जब भी मोदी बड़े मुद्दे में आम जनता से गिरते दिखते हैं तो इस तरह का कार्य योजना अंधभक्त के माध्यम से फैलाते हैं आम जनता के ध्यान को किस तरह से भटकाया जाए ताकि वर्तमान का मुद्दा सिर्फ और सिर्फ निरर्थक साबित हो मगर प्रधान सेवक जी यह कोई मामूली बात नहीं बलात्कार का मुद्दा है निर्भया कांड में जिस तरह से आप और आपके अंधभक्त मुखर थे अब आपकी चुप्पी जनता को सच बयां कर रही है आप जितने भी उपवास कर ले वह सिर्फ उपहास हीं बनने वाले हैं।ढोंग की राजनीति ज्यादा समय नहीं चलने वाली जनता को बार-बार नहीं ठगा जा सकता।जिला कांग्रेस अध्यक्ष अरुण मालाकार ने बताया कि मोदी जी की उपवास की देश भर में उपहास प्रारम्भ हो गई है। सत्तापक्ष में रहते आंदोलन करना अपनी कमजोरियो को जग जाहिर करना है अब तो आप बता ही दे कि बढ़ती महंगाई बेरोजगारी कालाधन वापसी लाने किसानों की मौत आमजनता के रुपयों में डकैती व बलात्कार कांड के लिए कब आंदोलन करेंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *