Tuesday, September 18, 2018
Home > Slider > मंत्री भैयालाल बने मसीहा, अब चार साल के मासुम होगा होगा इलाज

मंत्री भैयालाल बने मसीहा, अब चार साल के मासुम होगा होगा इलाज

बैकुंठपुर मुनादी 

 

श्रम मंत्री की पहल,4 वर्षीय बालक का एम्स दिल्ली में होगा लीवर ट्रांसप्लांट
हमेशा जनसेवा और लोगो के ईलाज हेतु तत्पर श्रम मंत्री भैयालाल राजवाड़े द्वारा किया गया एक और पहल रंग लाया है, क्षेत्र के एक गरीब परिवार द्वारा 4 वर्षीय बालक का लीवर ट्रांसप्लांट कराया जाना था किंतु 15 लाख का खर्च उनके लिए संभव नही था। इस पर परिजन की परेशानी देखते हुए श्रम मंत्री ने मुख्यमंत्री डॉ.रमन सिंह को पत्र लिखकर ईलाज कराने की मांग की थी जिस पर तत्काल संज्ञान लेते हुए मुख्यमंत्री द्वारा केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री को पत्र लिखा गया है और अब सम्भव है कि 4 वर्षीय बालक का लीवर ट्रांसप्लांट निःशुल्क हो सकेगा।
इस संबंध में मिली जानकारी के अनुसार पटना क्षेत्र के ग्राम रामपुर गेल्हापारा विकासखण्ड बैकुंठपुर निवासी राजपाल के 4 वर्षीय पुत्र अश्विन कुमार का लीवर खराब हो चुका है उसके ईलाज हेतु परिजन दिल्ली गए जहां चिकित्सकों ने लीवर ट्रांसप्लांट कराने की बात कही और 15 लाख का खर्च बताया, यह खर्च परिजन के लिए संभव नही था। जिसके बाद उन्होंने पिछले दिनों 25 मार्च को श्रम मंत्री से मिलकर अपनी समस्या बताई और ईलाज कराने का निवेदन किया,परिजन की परेशानियों को ध्यान में रखते हुए श्रम मंत्री भैयालाल राजवाड़े ने मुख्यमंत्री को पत्र के माध्यम से अवगत कराया कि अश्विन का लीवर ट्रांसप्लांट इंस्टिट्यूट ऑफ लीवर एंड विलेरी साइंस नई दिल्ली में कराया जाना है जिस पर 15 लाख खर्च है, परिजन की आर्थिक स्थिति ठीक न होने के कारण ईलाज की राशि खर्च कर पाने में सक्षम नही हैं। श्रम मंत्री ने इसे विशेष प्रकरण मानते हुए मुख्यमंत्री सहायता कोष से राशि उपलब्ध कराने की मांग की थी। जिस पर बालक की स्थिति और परिजन की आर्थिक स्थिति को ध्यान में रखते हुए मुख्यमंत्री डॉ.रमन सिंह ने 3 अप्रैल को केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री जे पी नड्डा को पत्र लिखकर बालक का ईलाज एम्स दिल्ली में निःशुल्क कराने की बात कही है। जिसके बाद परिजन को बालक के ईलाज की उम्मीद जगी है। 
वहीं केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री को मुख्यमंत्री द्वारा पत्र लिखे जाने के बाद श्रम मंत्री ने खुद अपने स्टाफ को बालक के परिजन को लेकर एम्स दिल्ली जाकर ईलाज कराने का निर्देश दिया है और वे शीघ्र ही दिल्ली के लिए रवाना होंगे। और इस बारे में एम्स दिल्ली में भी संपर्क हो गया है। वहीं इस प्रकरण पर गंभीरता दिखाने के लिए परिजन ने मुख्यमंत्री डॉ.रमन सिंह और श्रम मंत्री भैयालाल राजवाड़े के प्रति धन्यवाद ज्ञापित किया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *