Thursday, January 18, 2018
Home > Slider > दफ्तर सरकारी है तो क्या यहां सभी “राइट टाइम” आते हैं…आप भी कुछ सीखिए इस दफ्तर से …

दफ्तर सरकारी है तो क्या यहां सभी “राइट टाइम” आते हैं…आप भी कुछ सीखिए इस दफ्तर से …

सुनीता गुप्ता की मुनादी

सरकारी दफ्तर के कर्मचारी ओर अधिकारियों को ‘राइट टाइम” दफ्तर पहुचने के लिए शासन के जहां कई नुख्शे फेल हो गए वही जशपुर जनपद पंचायत के सीईओ ने अपने कर्मचारियों को राइट टाइम दफ्तर आने का अचूक फार्मूला निकाला है । यहां के सीईओ प्रेम सिंह मरकाम ने दफ्तर की शुरुआत से पहले सामूहिक  राष्ट्रीय गान की परंपरा की शुरुआत की है ।पिछले कई  दिनों से जनपद पंचायत जशपुर में प्रातः 10:30बजे ऑफिस में सीईओ सहित जनपद के सभी 30 कर्मचारी दफ्तर पहुँचकर कामकाज की शुरुआत से पहले सामूहिक राष्ट्रीय गान गाते है इसके बाद ही यहां काम काज शुरू होता है …..

क्यों शुरू किया राष्ट्रीय गान ……?

जनपद सीईओ मरकाम ने राष्ट्रीय गान के उद्देश्यों के बारे में हमे समझाते हए बताया कि राष्ट्रीय गान की शुरुआत करने का उद्देश्य यह है कि सभी कर्मचारियों में राष्ट्रीयता की भावना विकसित हो… दूसरा यह कि राष्ट्रीय गान का समय प्रातः साढ़े 10 बजे रखा गया है ताकि इतने समय तक सभी कर्मचारी दफ्तर पहुचकर अपना काम शुरू कर दें। उन्होंने बताया कि जनपद में उनके सहित करीब 30 कर्मचारी हैं और निश्चित समय से राष्ट्रीय गान होने पर यह भी आसानी से पता चलता है कि कौन कर्मचारी समय से आ रहा है और कौन लेट …

हम आपको बता दें कि 2006 में सबसे पहले इस परंपरा की शुरुआत रायगढ़ के तात्कालीन कलेक्रर आर एस विश्वकर्मा ने रायगढ़ में की थी ।

बहरहाल, जनपद पंचायत जशपुर द्वारा कर्मचारियों को समय से आने के लिए अपनाएं गए फार्मूले को सभी जगह अपनाने की जरूरत है ताकि राष्ट्रीयता के भावना के अलावे जनहित के काम भी सुचारू रूप से हो सके ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *