Thursday, June 21, 2018
Home > Slider > जशपुरिहा “साधो” अब मास्को में मचाएगा धूम

जशपुरिहा “साधो” अब मास्को में मचाएगा धूम

 

रायपुर मुनादी ।।

छत्तीसगढ़ के प्राकृतिक और आदिवासी अंचल जशपुर में बनी पहली हिंदी फीचर फिल्म “साधो” अब बनकर तैयार है इसका पहला प्रदर्शन “तीसरे देहरादून इंटरनेशनल फिल्म फेस्टिवल” में 4 नवम्बर को देहरादून में होगा | इस फिल्म में जशपुर के सभी प्रमुख पर्यटन स्थलों तथा जशपुर की सांस्कृतिक विरासत और जश्पुरिया लोक  को भी आप देख सकते हैं फिल्म का निर्देशन विख्यात रंग निर्देशक और अभिनेता दानिश इकबाल ने किया है इसकी पठकथा दानिश इकबाल और विभांशु बैभव ने लिखी है, साधो के मुख्य किरदार में बिस्मिल्लाह खां पुरस्कार से सम्मानित और राष्ट्रीय नाट्य विद्यालय से अभिनय में दक्षता प्राप्त सुकुमार टुडू ने निभाया है तथा सह अभिनय में दिल्ली की आइना,एकता सिंह  राष्ट्रीय नाट्य विद्यालय के ही प्रसन्ना तथा जशपुर के कैसर हुसैन,अमित पाण्डेय,गायत्री एवं मुख्य रूप से बाल कलाकार राजवर्धन सिंह मुख्य भूमिका में नज़र आयेंगे| इस फिल्म को जशपुर तक लाने में फिल्म के लाइन प्रोडूसर प्रितेश पाण्डेय का महत्वपूर्ण योगदान रहा है संस्कृति मंत्रालय भारत सरकार की तरफ से यंग आर्टिस्ट के अवार्ड से सम्मानित प्रितेश जशपुर के ही रहने वाले हैं और विगत कई वर्षों से थिएटर  और फिल्म में जशपुर का नाम राष्ट्रीय स्तर तक पहुंचाकर जशपुर को नई पहचान दे रहे हैं इस फिल्म में संगीत रोहन वर्मा,रवि गगन वर्मा विक्रमजीत के टीम का है तथा फिल्म के निर्माता आतिया खां,वरद गुप्ता,पूजा भरद्वाज और भरत हैं| फिल्म माँ बच्चे की बिछड़ने की घटना पर आधारित और इसी की यात्रा में पूरा आदिवासी अंचल वहाँ का रहन सहन और सांस्कृतिक झलक देखने योग्य है इस फिल्म का छायांकन मुंबई के नदीम ने किया है | दिसम्बर में यह फिल्म रायपुर इंटरनेशनल फिल्म फेस्टिवल में भी दिखाई जाएगी तथा जशपुर में भी फिल्म का सामूहिक प्रदर्शन होगा|

 

क्या है इस फ़िल्म में ?

 

फिल्म की कहानी एक फोटोग्राफर के जशपुर भ्रमण से शुरू होती है जो अपनी गर्भवती पत्नी के साथ जशपुर के सौन्दर्य को अपने कैमरे में कैद करने आया है किसी दुर्घटना में पत्नी की डिलेवरी जशपुर में ही हो जाती है और संयोगवश बच्चा एक जशपुरिया आदमी को मिल जाता है और ये आदमी उस बच्चे की माँ को ढूढने में जुट जाता है तभी बच्चा चोर गिरोह को इस बात की भनक लग जाती है  और इसी उधेड़बुन्द में कहानी आगे बढती है कहानी की यात्रा में जश्पुरिया  छोटा नागपुर लोक संस्कृति और जशपुर की पहाड़ी महक है | जो फिल्म को प्राकृतिक और पर्यटन से भी जोडती है यह जशपुर में बनी पहली फीचर फिल्म है जिसे देखना जशपुर को देखने जैसा है |मास्को में होगा प्रदर्शन

 

मास्को में भी होगा प्रदर्शन

 

12 दिसम्बर को रायपुर इंटरनेशनल फ़िल्म फेस्टिवल में दानिश इक़बाल द्वारा निर्देशित फीचर फ़िल्म “साधो” का प्रदर्शन किया गया ।छत्तीसगढ़ के जशपुरिया अंदाज़ में बनी फ़िल्म देहरादून, दिल्ली में प्रदर्शित हो चुकी है हरियाणा इंटरनेशनल फ़िल्म फेस्टिवल में फ़िल्म को बेस्ट फ़िल्म जूरी अवार्ड और फ़िल्म के लीड एक्टर सुकुमार टुडू को बेस्ट एक्टर अवार्ड मिला है रायपुर के बाद 17 दिसम्बर को खजुराहो इंटरनेशनल फ़िल्म फेस्टिवल में तथा इसके बाद मास्को में भी प्रदर्शित होगी।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *