Wednesday, January 17, 2018
Home > Slider > प्रधानमंत्री जी ! कलेक्टर ने हमें डांट कर भाग दिया, पढिये एक फौजी की दर्द भरी दास्तान

प्रधानमंत्री जी ! कलेक्टर ने हमें डांट कर भाग दिया, पढिये एक फौजी की दर्द भरी दास्तान

 

 

पत्थलगाँव मुनादी ।।

 

अपनी जमीन को बेचने की फरियाद लेकर फौजी जब कलेक्टर के पास पहुंचा तो कलेक्टर ने उस जवान को डांट कर भगा दिया दरअसल फौजी ने कुछ दिन पहले रिटायरमेंट के पैसे से पत्थलगांव में जमीन खरीदी थी सरकार ने 5 डिसमिल से कम जमीन की खरीद बिक्री पर रोक लगा दी है ऐसे में वह फौजी जमीन को बेचने के लिए कलेक्टर से परमिशन लेना चाहता था। फौजी ने जमीन बेचने के लिए प्रधानमंत्री को अपनी फरियाद भेजी है।

पत्थल गांव का रहने वाला अजय सिंह जब सेना की नौकरी से रिटायर हुआ तब उसने पत्थलगांव में रहने के लिए 3:30 डिसमिल जमीन खरीदी लेकिन कुछ दिनों के बाद ही अंबिकापुर में उसकी नौकरी लग गई और वह वहीं रह कर अपना काम कर रहा है उसके बच्चे भी वही पढ़ाई कर रहे हैं फौजी अब चाहता है कि वह अंबिकापुर में रह कर के ही अपना जीवन यापन करें वह वापस पत्थलगांव नहीं आना चाहता ऐसे में उसकी 3:30 डिसमिल जमीन जो उसने अपने रिटायरमेंट के पैसे से खरीदी थी उसे बेचना चाहता है सरकारी नियम यह है कि 5 डिसमिल से कम जमीन खरीदी अबे की नहीं जा सकती ऐसे में रिटायर्ड फौजी अपनी जमीन को नहीं भेज पा रहा है अपनी जमीन को बेचने के लिए जनदर्शन में जब वह कलेक्टर के पास अपनी फरियाद लेकर गया फौजी के अनुसार कलेक्टर ने उसे बुरी तरह डांट कर भगा दिया अब फौजी ने प्रधानमंत्री के पास इस बात की शिकायत की है।

क्या ऐसे अच्छे दिन……?

फौजी ने प्रधानमंत्री से यह भी पूछा है कि आपने तो 2022 तक सभी गरीबों को मकान देने का वादा किया है जब आदमी अपना ही जमीन बेचकर मकान नहीं बना पा रहा है ऐसे में कोई गरीब आदमी अपना मकान कैसे बना पाएगा ? उसने अच्छे दिन के ऊपर कटाक्ष करते हुए पूछा है क्या ऐसे अच्छे दिन आए हैं?उसने प्रधानमंत्री के साथी मुख्यमंत्री छत्तीसगढ़ राज्यपाल छत्तीसगढ़ कलेक्टर जशपुर SDM पत्थलगांव को भी उस पत्र की प्रतिलिपि को भेजा है।

One thought on “प्रधानमंत्री जी ! कलेक्टर ने हमें डांट कर भाग दिया, पढिये एक फौजी की दर्द भरी दास्तान

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *