Wednesday, June 26, 2019
Home > Top News > यह अस्पताल केवल नाम का है काम का नही…जानिए,कहाँ है अनोखा अस्पताल?

यह अस्पताल केवल नाम का है काम का नही…जानिए,कहाँ है अनोखा अस्पताल?

 

अतुल त्रिपाठी की मुनादी

रायगढ जिले के दुरस्थ आदिवासी  क्षेत्र कापु को स्वास्थ्य सुविधा के नाम पर हमेशा ही छला गया है । मुख्यमंत्री रमन सिंह के द्वारा करीब आठ दस साल पूर्व ग्राम सुराज आभियान के दौरान कापु मे 30 बिस्तर अस्पताल की घोषणा की गई थी उस समय आनन-फानन मे अधिकारियों के द्वारा पंचायत के पुराने भवन मे अस्पताल चालु करवा दिया गया जिसमें सुविधा के नाम पर तीन चार लोगों का स्टाफ दिया गया अन्य चीजें आज तक नही मिली है अब जाकर अस्पताल भवन के लिये शासन के द्वारा  निविदा जमा कराई गईं है ।

इसी क्षेत्र मे विजयनगर प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र जंहा सालों पुराना भवन है जो अपनी बदहाली की काहानी खुद बंया करता है डाक्टर नर्स कम्पाउडर दवाई एवं अन्य जरूरी उपकरणों का अभाव यंहा साफ दिखाई देता है हालाँकि कागजी तौर मे जरुरत के सारे संसाधन मौजुद है । जमीनी  हकीकत कुछ अलग है ।।

 

विजयनगर है संमुदायिक स्वास्थ्य केंद्र लेकिन सुविधा ले रहा धरमजयगढ़ —

ज्ञात हो कि पूर्व में विजयनगर राजकीय क्षेत्र होने के साथ यहां सीएससी अस्पताल कि स्वीकृति थी लेकिन दूरस्थ होने की वजह से यहां की हर सुविधा धरमजयगढ़ अस्पताल को दी जाती है । इस अस्पताल मे सात से आठ चिकित्सक के पद स्वीकृत है लेकिन  केवल दो चिकित्सक पदस्थ है उसमें से एक विभागीय पढ़ाई करने के लिए दो साल की छुट्टी मे है दो नर्सिंग स्टाफ दिया गया है उसमें से एक धर्मजयगढ मे अटैच है दुसरी आगे की पढ़ाई  के लिये अवकाश मे है ड्रेसर का जब से ट्रांसफर हुआ है पद खाली पड़ा है क्योंकि उसकी जगह लेने  वाला आज तक आया ही नही जिसका कार्य भी इकलौते चिकित्सक को करना पड़ता है इंफेट व्रामर, एक्सरा मशीन, स्टेबलाईजर साल भर से खराब  है

एक मात्र 108 एम्बुलेंस को धर्मजयगढ सिविल अस्पताल मे अटेच कर दिया गया है मेडिसिन के नाम पर सिर्फ इंजेक्शन और और कुछ जररल दवाई है  चीरघर की हालत तो इससे भी ज्यादा बुरी है इस भवन के सारे खिड़की दरवाजे गायब है खुले मे ही पोस्ट्र- माट्रम किया जाता है ।

पद्स्थ चिकित्सक राठौर का कहना है कि भवन की हालत ठीक नही है दो दिन भी अगर बारिस होती है तो पुरा भवन रिसता है और बरसात के दिनों मे तो पुरा  तालाब मे परिवर्तित हो जाता है जिससे दवाइयों के रखरखाव एवं मरीजों के देख- भाल मे दिक्कत होती है भवन की हालात,स्टाफ की कमी मशीनों की खराबी की लगातार जानकारी प्रत्येक शनिवार को धर्मजयगढ मे होने वाली बैठक मे ब्लाँक चिकित्सा अधिकारी को दि जाती है।

सांसद बिधायक भी …..

मुनादी की पड़ताल में गांव के सरपंच पति हिम्मित राठिया का कहना है कि अस्पताल की अव्यवस्था पर कई बार अधिकारियों को अवगत करा चुके है लेकिन किसी ने इस पर ध्यान  नही दिया ।स्थानीय निवासी लोहरा दास मंहत का कहना है कि कई सांसद विधायक आये पर किसी ने अस्पताल की व्यवस्था सुधारने की कोशिश नही की इस बार के चुनाव मे यह प्रमुख  मुद्दा रहेगा वंही  विजयनगर के ही कुछ  युवाओं का कहना है कि चुनाव मे इस बार हम उसी को आपना मत देंगे जो चुनाव से पूर्व अस्पताल की व्यवस्था ठीक करेगा और उनसे कुछ नही हुआ तो स्थानीय स्तर पर शांति पूर्वक आंदोलन किया जायेगा ।अभी कुछ दिनों पहले कापु मे सड़क मे हुए प्रसव के मामले में समानिया गांव की मितानिन के द्वारा मदद के लिये उप स्वास्थ्य केंद्र कापु मे पदस्थ पुरुष स्वास्थ्य कार्यकर्ता से मोबाइल में बात की थी लेकिन स्वास्थ कार्यकर्ता के द्वारा मैं  बाहर हूँ कहकर पल्ला झाड़ लिया गया उसको विभाग के द्वारा कारण बताओ नोटिस दिया गया है  जबकि दुसरी महिला स्वास्थ्य कार्यकर्ता जो ड्यूटी से उस दिन नदारद थी उसे विभाग के द्वारा निलंबित कर दिया गया तो क्या जिस पुरुष  कार्यकर्ता पर ड्युटी से गैर हाजिर महिला कर्मी एवं दर्द से तड़पती महिला जिसने रिमझिम बारिश के बीच मितानिन और परिवार की महिलाओं के सहयोग  से सड़क पर ही एक स्वस्थ बच्चे को जन्म दिया उसके प्रसव पूर्व जानकारी  देनी की जिम्मेदारी उस पुरुष कर्मी की नही थी उसे विभागो के द्वारा नोटिस देकर क्यो जवाबदेही का अंत कर दिया गया ।

जानकारी दी जाती है लेकिन कोई सुनता नही

इस सारे मामले मे जब धरमजयगढ बी.एम.ओ.डाक्टर भगत से बात की गई  तो उन्होंने ने कहा कि स्टाफ की कमी एवं खराब मशीनों एवं भवन मरम्मत की आवश्यकता की जानकारी विभागीय बैठक मे प्रत्येक माह जिला मे दे दी जाती है और 108 एम्बुलेंस को अटेच करने का निर्देश उपर से दिया गया है ।सिविल अस्पताल धर्मजयगढ मे प्रतिदिन 150 से 200 मरीज आते है विजयनगर अस्पताल को मैनैज करने को कंहा गया है एवं उपस्वास्थ केन्द्र कापु मे पद्स्थ दोनों कर्मियों पर कार्यवाही करने का अधिकार भी मुख्य चिकित्सा अधिकारी रायगढ़ को है ।

जिम्मेदारी और जबाबदेही किसी की भी हो  पर हालात जस के तस बने हुये है देखते है कब इस वर्षों पुराने भवन की व्यवस्था  सुधरेगी और क्षेत्र वासियों को बेहतर स्वास्थ्य सुविधा  का लाभ मिलेगा ।

Munaadi Ad

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *