Friday, November 16, 2018
Home > Slider > यह है सच्ची सोशल पोलिसिंग, DSP की पहल पर बहिष्कृत परिवार की महिला का पुलिस ने किया अंतिम संस्कार

यह है सच्ची सोशल पोलिसिंग, DSP की पहल पर बहिष्कृत परिवार की महिला का पुलिस ने किया अंतिम संस्कार

Facebook post

बिलासपुर मुनादी ।।

 

 

 

अबतक सोशल पोलिसिंग की बात की जाती रही है पर बिलासपुर गौरेला के पुलिस ने व्यवहारिक रूप से बताया कि आखिर सोशल पोलिसिंग क्या होती है। उन्होंने समाज से बहिष्कृत एक परिवार की महिला के शव को न सिर्फ कंधा देकर अंतिम संस्कार किया बल्कि बहिष्कार करने वालों पर कार्रवाई कर ऐसी भयावह सामाजिक घटना की पुनरावृत्ति को भी रोकने की कोशिश की।

शिवतराई…अचानकमार टाइगर रिज़र्व के अंदर बसा कोटा थाने के अंतर्गत एक गांव .. सोशल मीडिया से पता चला कि वहाँ एक परिवार का गाँव वालों ने सामाजिक बहिष्कार कर दिया है वो भी बस एक अफवाह के कारण कि उस परिवार की लड़की का किसी दूसरे जाति के लड़के से प्रेम संबंध है.. रूढ़िवादिता इतनी कि उस लड़की की माँ का कल 3 बजे स्वर्गवास हो गया परंतु कोई भी कंधा देने नहीं आया और वो परिवार इतना गरीब कि उनके पास कफ़न-दफन के भी पैसे नहीं थे । जब इस बात की जानकारी स्थानीय पुलिस को हुई तो वहां के DSP अभिषेक सिंह की पहल पर कुछ सामाजिक कार्यकर्ताओं के साथ उन्होंने शव को कंधा देकर और आर्थिक मदद देकर पार्थिव देह का दाह संस्कार किया ।
इस घटना को DSP अभिषेक सिंह ने फेसबुक के माध्यम से शेयर भी किया है। उन्होंने बताया कि अब जिन लोगों ने सामाजिक बहिष्कार कर के उस परिवार का शोषण किया है उनके खिलाफ FIR कर के कड़ी कार्यवाही की जाएगी ताकि बाकियों के लिए एक सबक रहे ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *