Monday, June 25, 2018
Home > Slider > अरे ये डॉक्टर है या शैतान ? पैसों के लिए बच्चे का वेंटीलेटर निकाला, मौत के बाद शव भी बंधक बनाया

अरे ये डॉक्टर है या शैतान ? पैसों के लिए बच्चे का वेंटीलेटर निकाला, मौत के बाद शव भी बंधक बनाया

 

रायगढ़ मुनादी।।

अभी जबकि दिल्ली के मैक्स हॉस्पिटल और गुड़गांव के फोर्टिस हॉस्पिटल पर बड़ी कार्रवाई हुई है पर अस्पतालों के रवैये में कोई तब्दीली नहीं आयी है। हालांकि छत्तीसगढ़ में अस्पतालों के मनमानी पर कोई कार्रवाई नहीं होती और इन्हें हैवानियत की हर हद पार करने की छूट भी है। ऐसे में इस तरह की घटनाएं अब किसी के संवेदना को छूती भी नहीं। एक वाक्य आज रायगढ़ में भी हुआ जहां बच्चे का वेंटिलेटर पैसे के लिए हटा लिया गया जिससे उसकी मौत हो गयी और शव को बिना पैसे परिवार को सौंप भी नहीं रहे थे। उस समय मानवाधिकार समिति के लोगों ने जब हंगामा किया तब उन्होंने शव सौंपा।

भगवान कहे जाने वाले एक

Advt
Advt

अस्पताल के डॉक्टरों के चलते जहां एक मासूम की जान बचनी थी लेकिन इनके चलते डेढ़ माह की    बच्चे  ने दम तोड़ दिया ।पुरा मामला रायगढ़ शहर में स्थित मिशन अस्पताल ( जे एम जे मॉर्निंग स्टार हॉस्पिटल) का है जहां डेढ़ माह पहले कोतरा रोड निवासी गोलू सोनू की पत्नी ने यदि अस्पताल में एक बच्चे को जन्म दिया था लेकिन बच्के को गम्भीर बीमारी बताकर उसे भर्ती कर लिया गया ।दो दिन पहले बच्चे की हालत बिगड़ गयी और उसे वेंटिलेटर पर रख लिया गया ओर उन्हें 80 हजार का बिल थमा दिया।अचानक 80 हजार का बिल देखकर बच्चे के पिता के पांव के नीचे से जमीन खिसक गई । हद्द तो तब हो गयी जब यहां के अस्पताल प्रबंधन ने यह कह दिया कि अगर 80 हजार तत्काल जमा नही किया तो बच्चे को वेंटिलेटर से हटा दिया जाएगा। अस्पताल के इस फरमान के बाद वह काफी समय तक 80 हजार के इंतजाम में लगा रहा आखिर में जब 80 हजार का इंतज़ाम नही हुआ और उसने अस्पताल प्रबंधन को 80 हजार तत्काल देने में असमर्थता जताई तो यहां के प्रबन्धन ने बच्चे को वेंटिलेटर से बाहर कर दिया और आज उस बच्चे की मौत हो गयी।

शव को बनाया बंध

इन डॉक्टरों की सम्बेदनहीनता यही खत्म नही होती ।बताया जा रहा कि बच्चे की मौत के बाद अस्पताल प्रबंधन ने 80 हजार बिल पेमेंट नही करने के चलते बच्चे के शव को बंधक बना लिया और साफ बोल दिया कि 80 हजार दिए बगैर शव को नही सौंप सकते ।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *