Tuesday, August 14, 2018
Home > Slider > 30 साल पहले मृत घोषित कर जमीन हथियाने के मामले में तहसीलदार, पटवारी, कोटवार सहित 6 पर एफआईआर

30 साल पहले मृत घोषित कर जमीन हथियाने के मामले में तहसीलदार, पटवारी, कोटवार सहित 6 पर एफआईआर

रायगढ़। मुनादी

 बरमकेला पुलिस ने करीब एक साल के पुराने मामले में जांच के बाद  थाना बरमकेला द्वारा  तात्कालीन तहसीलदार, पटवारी, कोटवार सहित 6 लोगोंं के खिलाफ नामजंद एफआईआर दर्ज किया है।
मामला 2013 में उस समय सामने आया जब मंदोदरी बेवा माधव प्रसाद  को 30 साल पहले मृत बताकर खैरगढ़ी व पण्डरीपानी स्थित भूमि को मिली भगत कर हथिया ली गई थी। मामला सामने आने के बाद एसडीएम सारंगढ़ के यहां अपील किया गया था जहां साल 2017 में आदेश दिया गया कि बेवा की जमीन को कुटरचना कर फर्जी तरीके से मृत बताकर उसके नाम को विलोपित कर दिया गया। अनुविभागीय अधिकारी न्यायालय के आदेश के बाद मामला पेंडिंग पड़ा हुआ था।  6 माह पूर्व इसकी शिकायत जिले के एसपी से की गयी थी। मामले को विभाग द्वारा संजीदगी से लिया गया और संबंधित थाने में जांच के बाद एफआईआर करने का निर्देश दिया गया। 
मंदोदरी बेवा माधवप्रसाद को साल 2013 में 30 साल पहले मृत बताकर खैरगढ़ी की ख.नं. 23 रकबा 2.147 हे व पंडरीपानी स्थित भूमि ख नं. 3 रकबा 1.533 हे भूमि को मृृत बताकर राजस्व अभिलेखों में बेवा का नाम विलोपित कर जमीन हथिया ली गई थी। इसमें राधाचरण व जयदेव को गवाह बनाकर पटवारी हल्का रंगलाल निराला द्वारा नामांतरण की कार्रवाई कूटरचना कर फर्जी तरीके से किया गया तथा तत्कालीन तहसीलदार अशोक भोई द्वारा प्रमाणित किया गया। इस मामले में तात्कालीन तहसीलदार वर्तमान में सेवानिवृत्त, पटवारी रंगलाल निराला, कोटवार जयदेव सहित राधाचरण व कैरीबाई निवासी बरमकेला, ईश्वरी बाई निवासी बरमकेला के खिलाफ धारा 420, 467, 468, 471, 470 व 34 के तहत अपराध पंजीबद्ध कर मजिस्ट्रेट को भेजी गई है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *