Tuesday, March 26, 2019
Home > Top News > नगर सैनिक की मौत के मामले में 3 माह बाद भी पुलिस के हाथ खाली, ग्रामीणों ने थाने का किया घेराव

नगर सैनिक की मौत के मामले में 3 माह बाद भी पुलिस के हाथ खाली, ग्रामीणों ने थाने का किया घेराव

नए थाना प्रभारी ने दिया शीघ्र कार्यवाही का आश्वासन

कोरिया से अनूप बड़ेरिया की मुनादी

लगभग 3 माह पूर्व नगर सैनिक की मौत की इको सिटी कोतवाली पुलिस अभी तक समझा पाने में नाकामयाब रही है। इधर परिजनों ने आज पुलिस पर लापरवाही का आरोप लगाते हुए सैकड़ों ग्रामीणों के साथ कोतवाली पहुंचकर घेराव कर दिया। जिसके बाद नगर कोतवाल ने शीघ्र कार्यवाही का आश्वासन दिया है। दरअसल बैकुंठपुर में नगर सैनिक के पद पर कार्यरत रामनाथ राजवाडे पिता बनारसी लाल उम्र 45 वर्ष निवासी मझगवां 16 अक्टूबर की रात्रि लगभग 11:00 बजे बिलासपुर रोड में ग्राम सलका के निकट गंभीर अवस्था में मिला था। जिसे उपचार के लिए जिला चिकित्सालय बैकुण्ठपुर में भर्ती कराया गया था ,जहां उपचार के दौरान उसकी मौत हो गई थी। प्रथम दृष्टया में एक्सीडेंट का मामला प्रतीत होने पर पुलिस ने सड़क दुर्घटना में मौत होने की बात कही थी। लेकिन पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद पुलिस ने हत्या का मामला दर्ज करते हुए मामले में भादवि की धारा 302 के अंतर्गत अपराध पंजीबद्ध कर लिया था। बावजूद इसके 3 माह बाद भी पुलिस इस मामले में कुछ नहीं कर पाई। इसी के विरोध में कांग्रेस नेता चंद्र प्रकाश राजवाडे के नेतृत्व में मृतक नगर सैनिक के परिजनों के साथ सैकड़ों ग्रामीणों ने सिटी कोतवाली में धावा बोल दिया। मृतक नगर सैनिक की पत्नी रितु राजवाडे ले साफ-साफ कहा कि उसकी पत्नी की हत्या हुई है और इस हत्या में उनके साथ रहने वाले दोस्त हरबंश का हाथ है। वहीं मृतक नगर सैनिक के पुत्रों ने भी मोबाइल कॉल डिटेल निकलवा कर हरबंश के खिलाफ कार्रवाई करने की मांग की है। ग्रामीण काफी देर तक थाने में ही डटे रहे हैं सिटी कोतवाली प्रभारी विलियम टोप्पो के आश्वासन के बाद ही सभी ग्रामीण वहां से वापस लौटे।

मृतक जवान

इस संबंध में नव पदस्थ थाना प्रभारी विलियम टोप्पो ने बताया कि मैंने कल ही केस डायरी मंगाकर अध्ययन किया है। इस मामले में फिर से विवेचना की जाएगी और जो भी अपराधी होगा उसे शीघ्र गिरफ्तार किया जाएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *