Thursday, April 19, 2018
Home > Slider > अविश्वसनीय छत्तीसगढ़, पैदा होते ही गरीबी रेखा में चढ़ गया नाम, छः साल का हुआ तो मिल गया प्रधानमंत्री आवास,

अविश्वसनीय छत्तीसगढ़, पैदा होते ही गरीबी रेखा में चढ़ गया नाम, छः साल का हुआ तो मिल गया प्रधानमंत्री आवास,

 

राजनांदगांव मुनादी । 

 

 

गरीबी को पक्का मकान मुहैया कराने के उद्देश्य को सच करने केंद्र सरकार ने प्रधानमंत्री आवास योजना की शुरुआत की गयी, लेकिन मुख्यमंत्री डॉ रमन के निर्वाचन जिले में ही जनपद व ग्राम पंचायतों में केंद्र सरकार की इस योजना का जमकर मखौल उड़ाया जा रहा है और ये योजना भ्र्ष्टाचार की भेंट चढ़ता दिख रहा है  जहां इस योजना में जमकर फर्जीवाड़ा होने की जानकारी निकल कर आ रही है।
प्रधानमंत्री आवास योजना में इस फर्जीवाड़े का माम्राला जनांदगांव ब्लॉक के ग्राम मगरलोटा में सामने आया है। जहां पंचायत ने भ्र्ष्टाचार और फर्जीवाड़ा करते हुए छह साल के मासूम बच्चे को ही हितग्राही बनाकर पीएम आवास का मालिक बना दिया।
सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार, मगरलोटा के विष्णु साहू ने सूचना के अधिकार के तहत प्रधानमंत्री आवास योजना के हितग्राहियों की सूची निकाली, जिसमें पंचायत के फर्जीवाड़े का खुलासा हो गया है। इसकी शिकायत एसडीएम से भी की गई है पूरी प्रकरण की जांच की जा रही है।
शिकायतकर्ता ने यह भी बताया कि पंचायत ने 50 ग्रामीणों में जिन 44 लोगों को पीएम आवास के लिए पात्र बताया है, उसमें से कई लोग अपात्र है। वहीं कई पात्र होने के बाद भी पंचायत ने उन्हें अपात्र कर दिया है। जिसमें गांव की 60 वर्षीय एक बुजुर्ग महिला है। बेसहारा होने के बाद भी पंचायत ने उसके घर में मोटर साइकिल होना बता कर शासन की योजना से उसे अपात्र कर दिया है, जबकि महिला अकेली रहती है।
केंद्र सरकार के ड्रीम प्रोजेक्ट प्रधानमंत्री आवास में गड़बड़ी के बाद पंचायत प्रतिनिधि 2011 की सर्वे सूची को गलत बताकर पल्ला झाड़ने में लग गए हैं। सरपंच अन्नपूर्णा साहू का कहना है कि पात्रता सूची में हितग्राही का नाम है।
ये आश्चर्यजनक है कि जिस बच्चे को पीएम आवास का हितग्राही बनाया गया है, उसका जन्म ही सितंबर 2011 में हुआ है, सर्वे सूची में बच्चे का नाम होना प्रशासन के कार्यों पर भी सवाल खडे करता है।
पंचायत ने गांव के छह वर्षीय लव कुमार पिता लेखराम निषाद को हितग्राही बनाकर पीएम आवास का मालिक बना दिया है जो अभी कक्षा दूसरी में अध्ययनरत है। गौरतलब है कि पात्रता दिलाने बच्चें का आधार कार्ड से लेकर मतदाता परिचय पत्र व उसकी मां के साथ ज्वाइंट अकाउंट भी खुलवाया गया है। यही नहीं मनरेगाा का जॉब कार्ड तक दिया है। हालांकि इसमें से कुछ दस्तावेज मासूम लव कुमार की मां के नाम पर है।
प्रधानमंत्री आवास योजना तहत हितग्राहियों को मकान आबंटन करने ग्राम पंचायत ने बाकायदा 4 मई 2016 को बैठक ली जिसमे लव कुमार निषाद सहित 50 लोगों में से 44 लोगों को पीएम आवास के लिए पात्र बताया गया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *