Tuesday, January 16, 2018
Home > Slider > छुट्टी के दिन भी इलाज करता है ये सरकारी डॉक्टर, इस सेवा के जज़्बा को सलाम कीजिये

छुट्टी के दिन भी इलाज करता है ये सरकारी डॉक्टर, इस सेवा के जज़्बा को सलाम कीजिये

जशपुर मुनादी

हालाँकि कोई व्यक्ति अपनी ड्यूटी अच्छी तरह से निभाए तो वह दिनचर्या होती है लेकिन जिस दौर में कोई अपने कर्तव्यों का निर्वाहन भी नहीं कर रहा हो वहां किसी के द्वारा सामान्य ढंग से भी कर्तव्यों के निर्वाहन करना खबर बन जाती है. यह खबर भी आपको आश्चर्य में डाल देगी.

अभी तक आपने डॉक्टरों की लापरवाही ओर अस्पताल नही आने की कई खबरे देखी सुनी होंगी लेकिन आज हम जो आपको खबर सुनाने जा रहे है वह खबर सरकारी अस्पताल के सभी मिथक को तोड़ता हुआ दिख रहा है । दरअसल ,हम बात कर रहे हैं जशपुर जिला अस्पताल में पदस्थ चिकित्सक डाक्टर अनामया बीड़बई की बात कर रहे हैं जिन्हें सेवा की धुन में यह भी याद नही रहता कि आज छुट्टी है।
छग में आज शासकीय अवकाश है । अक्सर हर नौकरीपेशा इंसान को छूटियों का बेसब्री से इंतज़ार होता है और छुट्टी के दिन वह पूरी तरह छुट्टी मनाता है लेकिन जिला अस्पताल में पदस्थ इस डाक्टर को यह भी नही पता होता है कि आज छुट्टी है और वह मरीजो का इलाज करने अस्पताल पहुच जाता है।
घटना सोमबार सुबह की है जब जशपुर जिले के पत्रकार विश्वबन्धु शर्मा अपने बेटे का इलाज कराने जब जिला अस्पताल पहुचे तो देखा कि डॉक्टर अनामया अपने चैंबर में मरीजो का इलाज कर रहे है । उन्होंने डाक्टर से यूं ही पूछ लिया कि आज मर्जेन्सी डयूटी का है क्या ?इस पर डॉक्टर ने कहा कि कोई इमरजेंसी नही रूटीन ड्यूटी है । बाद में जब पत्रकार शर्मा ने उन्हें बताया कि आज शासकीय अवकाश है तो वह बिल्कुल चौंक गए और बोला-” अरे! मुझे तो पता ही नही है कि आज शासकीय अवकाश है।
हम आपको बता दें कि डॉक्टर अनामया के द्वारा अवकाश के दिन भी किये जा रहे मरीजो की सेवा का जिक्र आज सोशल मीडिया में भी हो रहा है ओर सोशल मीडिया से ज़ुड़े लोग इस डाक्टर की खूब प्रशंसा कर रहे हैं इस बीच चंद्रपुर बिधायक युद्धवीर सिंह जूदेव ने भी डाक्टर अनामया की प्रशंसा की है ।उन्होंने इस डाक्टर को जशपुर जिले की रोशनी बताया है ।हम आपको बता दें कि डॉक्टर अनामया पिछले कुछ वर्षों से संविदा के तौर पर जशपुर जिला अस्पताल में अपनी सेवाएं दे रहे हैं इस दौरान इन्होंने कई ऐसे गम्भीर मरीजो का इलाज ओर ऑपरेशन किया है जिसका इलाज आस पास के शहरों में सम्भव नही है ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *