Friday, November 16, 2018
Home > Slider > सरकार कहती है कोचिया का खात्मा हो गया और गांववाले कोचियों के खिलाफ कर रहे आंदोलन, अविश्वसनीय छत्तीसगढ़

सरकार कहती है कोचिया का खात्मा हो गया और गांववाले कोचियों के खिलाफ कर रहे आंदोलन, अविश्वसनीय छत्तीसगढ़

 

रायपुर मुनादी ।

 

 

कोचियाबंदी के सरकारी दावे के उलट ग्रामों में कोचियों की बढ़ोत्तरी व इनके द्वारा धड़ल्ले से बेचे जा रहे शराब से ग्रामीण जनजीवन अशांत हो चला है। गुहार पर गुहार के बाद भी इस पर रोक लगा पाने में शासन-प्रशासन की असफलता व पंचायत की कथित निष्क्रीयता से क्षब्ध ग्राम चंदखुरी में समाज स्तर पर इसके खिलाफ अभियान छोड़ दिया गया है। ग्राम के ढीमर समाज द्वारा की गयी शुरूआत को वर्मा व साहू समाज का भी साथ मिल गया है। इसे बाद भी कतिपय बेखौफ कोचिये शराब बेचने से बाज नहीं आ रहे।
ज्ञातव्य हो कि मंदिर हसौद थाना क्षेत्र के तकरीबन 5000 आबादी वाले कौशिल्या माता स्थित ग्राम चंदखुरी में शराब कोचियों ने ग्रामीण जनजीवन को अशांत कर डाला है। ग्राम में सक्रिय 10-15 कोचिये शाम ढले पंचायत चौक पर अघोषित भीड़ का माहौल बना रखे थे। शासन-प्रशासन से गुहार का भी इन कोचियों पर कोई असर नहीं हो रहा था व ग्राम की राजनीति के चलते पंचायत भी सक्रियता नहीं दिखला रहा था। इस स्थिति में ग्राम के ढीमर समाज ने ग्रामीणों को आशा की किरण दिखलायी। लगभग 150 घरों के निवासी इस समाज ने सामाजिक स्तर पर प्रतिबंध लगा सामाजिक व्यवस्था को न मानने वाले को समाज से बाहर करने का फरमान जारी कर दिया। इसका कुछ असर ग्राम में दिखा तो दूसरे सबसे बड़े आबादी वाले वर्मा व साहू समाज ने भी बैठका कर अवैध शराब बिक्री करने पर सामाजिक दंड का फरमान जारी कर दिया। ग्राम में इनके करीब 125-125 घर है। इसके बाद ग्राम में पटेल व सतनामी समाज के तकरीबन 25-25 घर, यादव समाज के लगभग 10 घर व गोड़ समाज के 3-4 घर है। पटेल व यादव समाज में किसी के द्वारा अवैध शराब बेचने की शिकायत नहीं है। इन तीनों समाज के पहल से माहौल में पहले की अपेक्षा सुधार होने की जानकारी तो ग्रामवासी देते हैं पर अभी भी कुछ कोचिये चोरी छिपे शराब बेचने से बाज नहीं आ रहे।
शुष्क दिवस पर शराब के जखीरा सहित पकड़ाये ढीमर समाज का एक कोचिया द्वारा तो सामाजिक दंड मिलने के बाद भी शराब बेचना बंद न करने की जानकारी ग्रामीण देते हैं तो वहीं सतनामी समाज के कोचियों पर अब तक लगाम न लगने व मनाही पर बेखौफ शराब बेचने की चुनौती देने की जानकारी भी ग्रामीण देते हैं। किसान संघर्ष समिति के संयोजक भूपेन्द्र शर्मा ने तीनों समाज को इस मुहिम के लिये बधाई देते हुये सतनामी समाज से भी आग्रह किया है कि वे ग्राम को बरबादी से बचाने इस अभियान में शामिल होंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *