Monday, June 25, 2018
Home > Slider > कलेक्टर के जिद्द के आगे लाचार हुए भगवान, महीनों से धूल फांक रही मंदिर की फाइल, भक्त हुए नाराज

कलेक्टर के जिद्द के आगे लाचार हुए भगवान, महीनों से धूल फांक रही मंदिर की फाइल, भक्त हुए नाराज

जशपुर मुनादी

स्व कुमार दिलीप सिंह जूदेव की प्रतिमा लगने में लेट लतीफी के बाद अब जशपुर में महीनों से प्रस्तावित सूर्य मंदिर को लेकर सियासत गरमाने लगी है। कहा जा रहा है कि जनसमुदाय की आस्था को देखते हुए जशपुर में छठ घाट के साथ साथ भगवान सूर्य के मंदिर की मांग पर सरकार ने यहां के लिए लाखों रुपये से बनने वाले सूर्य मंदिर के प्रस्ताव को पास तो कर दिया लेकिन जशपुर जिला प्रशासन  जनभावना को दरकिनार करते हुए जान बूझकर इस पुण्य काम मे लेट लतीफ कर रहा है । हिंदूवादी संगठन विश्व हिंदू परिषद के जिला महामंत्री सत्येंद्र पाठक ने बताया कि झारखंड की सीमा से लगे होने के चलते जशपुर में छठ पूजा का विशेष महत्व है ।इस पूजा से नगर नगर के जन जन की आस्था जुड़ी हुई है ।इसी को देखते हुए नगरपालिका उपाध्यक्ष प्रियम्बदा सिंह जूदेव के प्रयास से सूर्य मंदिर के प्रस्ताव को सरकार से पास कराया गया था। इस प्रस्ताव पर सरकार ने मुहर भी लगा दी और बीते  जून महीने में ही धार्मिक न्यास ने कलेक्टर जशपुर को पत्र जारी कर भगवान सूर्य के मंदिर का स्टीमेट मंगवाया था लेकिन आज पर्यंत कलेक्टर कार्यालय के द्वारा धार्मिक न्यास को स्टीमेट नही भेजा गया जिससे यह साफ जाहिर होता है कि जिला प्रशासन को जनआस्था ओर जनभावना से कोई सरोकार नही है।
विहिप नेता पाठक ने मुनादी डॉट कॉम से विशेष चर्चा में बताया कि जशपुर धर्म की नगरी है यहां सेवा और आस्था को सबसे ऊपर स्थान में जाने की परम्परा रही है ।उन्होंने कहा कि सूर्य मंदिर को लेकर विहिप जिला प्रशासन के विरुद्ध आंदोलन की रणनीति तैयार कर रही है । भगवान सूर्य देव से जुड़ी आस्था की अनदेखी करने के पीछे उन्होंने जशपुर कलेक्टर को जिम्मेदार ठहराया ओर कहा कि कलेक्टर या तो यह स्पष्ट करे कि शासन को 6 महीने में भी स्टीमेट क्यों नही भेजा गया ?
जनआस्था से जुड़ा है सूर्य मंदिर -प्रियम्बदा
    गौरतलब है कि जिला मुख्यालय जशपुर में स्व दिलीप सिंह जूदेव की प्रतिमा लगाए जाने में देरी को लेकर भी सियासत की आग पहले ही धधक चुकी है ।जिले के सरपंच संघ ने प्रतिमा में देरी होने के पीछे जिला प्रशासन की भूमिका बताकर 3 दिन पहले आंदोलन की धमकी भी दी है ।
इस मामले में नगरपालिका उपाध्यक्ष प्रियम्बदा सिंह जूदेव का कहना है कि उन्हें नही पता कि जिला प्रशासन द्वारा देरी क्यों की जा रही है उन्होंने कहा कि यह प्रशासनिक मामला है हो सकता है प्रशासन को  कोई तकनीकी दिक्कत आ रही हो । गौरतलब है कि श्रीमती जूदेव के प्रयास से न केवल सूर्य मंदिर को पास कराया गया है बल्कि लोगों की श्रद्धा और आस्था को देखते हुए उन्होंने इस मंदिर के लिए जमीन भी दान में दिया है । इसके अलावा छठ घाट भी इन्ही के प्रयासों का नतीजा है । बहरहाल,सूर्य मंदिर को लेकर कथित प्रशासनिक लापरवाही को लेकर श्रीमती जूदेव ने ज्यादा कुछ नही कहा लेकिन इतना जरूर कहा कि छठ छठ घाट के साथ साथ सूर्य मंदिर को लेकर स्थानीय लोगों द्वारा बार बार मांग उठायी जा रही थी इसके मद्देनहर यहां सूर्य मंदिर बनवाया जा रहा है ।

इधर इस मामले में जशपुर कलेक्टर प्रियंका शुक्ला से भी मुनादी डॉट कॉम ने सम्पर्क कर विलम्ब के असली कारणों को  जानने की कोशिश की लेकिन उनके द्वारा दूरभाष रिसीव नही किये जाने के कारण उनसे संपर्क नही हो पाया ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *